INTERNATIONAL NATIONAL

अमरनाथ यात्रा पर नजरें गड़ाए है पाकिस्तान, 200 आतंकियों की खेप भेजने की है तैयारी

बाबा अमरनाथ यात्रा पर जाने वाले श्रद्धालुओं को आतंकी पहले भी निशाना बनाते रहे हैं.
जम्मू कश्मीर पुलिस ने अमरनाथ यात्रा को सुरक्षित बनाने के लिए पूरे मार्ग में तैनात करने के लिए कम से कम 22 हजार अतिरिक्त अर्ध सैनिक बलों की मांग की है. वार्षिक अमरनाथ यात्रा 28 जून से शुरू हो रही है.
नई दिल्ली: अमरनाथ यात्रा को प्रभावित करने के लिए पड़ोसी देश पाकिस्तान आतंकवादियों की बड़ी खेप भेजने की तैयारी में है. सुरक्षा एजेंसियों की खुफिया रिपोर्ट में कहा गया है कि अमरनाथ यात्रा पर आने वाले यात्रियों को निशाना बनाने के लिए करीब 200 आतंकियों को खासतौर से ट्रेनिंग दी गई है. जम्मू कश्मीर पुलिस ने अमरनाथ यात्रा को सुरक्षित बनाने के लिए पूरे मार्ग में तैनात करने के लिए कम से कम 22 हजार अतिरिक्त अर्ध सैनिक बलों की मांग की है. वार्षिक अमरनाथ यात्रा 28 जून से शुरू हो रही है.

रास्तों पर सीसीटीवी और उपग्रहों से रखी जाएगी नजर
अधिकारियों ने बताया कि पूरे यात्रा मार्ग में सुरक्षा के लिए तीर्थ यात्रियों के संचालन की उपग्रहों के जरिए निगरानी, जैमर लगाने, सीसीटीवी कैमरे और बुलेटप्रूफ बंकर, खोजी कुत्तों की तैनाती जैसे उपाए किए जाएंगे.

ये भी पढ़ें: सर्जिकल स्‍ट्राइक के बाद 10 लॉन्चिंग पैडों पर बड़ी संख्‍या में दिखे आतंकी, 450 आतंकी घुसपैठ की फिराक में

इस मामले से जुड़े एक अधिकारी ने बताया कि इस कड़ी सुरक्षा व्यवस्था को लागू करने के लिए सेना, अर्धसैनिक बलों और जम्मू कश्मीर पुलिस को शामिल किया जाएगा. जम्मू कश्मीर पुलिस ने यात्रा मार्ग में तैनाती के लिए अर्धसैनिक बलों की अतिरिक्त 225 कंपनियों की मांग की है.

गृह मंत्री ने अमरनाथ यात्रा की सुरक्षा का लिया था जायजा
गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने पिछले सप्ताह जम्मू कश्मीर की यात्रा के दौरान अमरनाथ यात्रा की सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया था. एक अन्य अधिकारी ने बताया कि इस दौरान उन्हें बताया गया कि तीर्थयात्रा को सुचारू रूप से चलाने के लिए कई चरण की सुरक्षा व्यवस्था बनाई गई है.इस वर्ष कम से कम 40 हजार जवान तैनात किए जाने की उम्मीद है.

विभिन्न सुरक्षा एजेंसियों के अनुमान के मुताबिक कश्मीर घाटी में करीब 200 आतंकवादी सक्रिय हैं और हालिया ट्रेंड दिखाते हैं कि आतंकवादी हमला करने में बेलगाम हो गए हैं.

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *