‘गब्बर’ का धमाका, भारत ने श्रीलंका को आठ विकेट से हराकर श्रृंखला जीती

विशाखापट्टनम : शिखर धवन की धमाकेदार नाबाद शतकीय पारी और चहल व कुलदीप यादव की घातक गेंदबाजी के दम पर टीम इंडिया ने श्रीलंका को तीसरे और आखिरी वनडे में 8 विकेट से रौंदकर सीरीज पर 2-1 से कब्‍जा कर लिया. सलामी बल्‍लेबाज शिखर धवन ने नाबाद रहते हुए 85 गेंद पर 13 चौके और दो छक्‍के की मदद से 100 रन बनाये. धवन का यह वनडे में 12वां शतक है. इसके साथ ही धवन ने आज वनडे में अपना चार हजार रन भी पूरा कर लिया.

इससे पहले कुलदीप यादव और युजवेंद चहल ने यहां फिर से अपनी कलाईयों की जादूगरी दिखाकर श्रीलंका के शुरुआती दबदबे को खत्म किया जिससे भारत तीसरे और अंतिम एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच में अपने इस प्रतिद्वंद्वी को 215 रन पर समेटने में सफल रहा. कुलदीप ने 42 रन देकर तीन और चहल ने 46 रन देकर तीन विकेट लिये.
ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या ने 49 रन देकर दो विकेट हासिल किये जबकि जसप्रीत बुमराह और भुवनेश्वर कुमार ने एक एक विकेट हासिल किया जिससे भारत ने इस निर्णायक मुकाबले में श्रीलंका को 44.5 ओवर तक ही क्रीज पर टिकने दिया. श्रीलंकाई पारी का आकर्षण सलामी बल्लेबाज उपुल थरंगा की 82 गेंदों पर खेली गयी 95 रन की पारी रही जिसमें उन्होंने 12 चौके और तीन छक्के लगाये.
थरंगा ने सदीरा समरविक्रम (42) के साथ दूसरे विकेट के लिये 121 रन जोड़े. श्रीलंका ने अपने आखिरी आठ विकेट 55 रन के अंदर गंवाये. कुलदीप और चहल ने बीच के ओवरों में अपने कौशल और कलाइयों का बेजोड़ नमूना पेश करके एक बार फिर से अनुभवी रविचंद्रन अश्विन और रविंद्र जडेजा पर तवज्जों देने के चयनकर्ताओं को फैसले को सही साबित किया. जिस तरह से थरंगा ने सकारात्मक रवैये के साथ बल्लेबाजी की और समरविक्रम ने उसी अंदाज में उनका साथ दिया उससे लग रहा था कि श्रीलंका आसानी से 300 रन के स्कोर तक पहुंच जाएगा.
लेकिन एक बार इन दोनों के बीच की साझेदारी टूटने के बाद कुलदीप और चहल हावी हो गये और मैच का रुख एकदम से पलट दिया. जो श्रीलंकाई बल्लेबाज अभी तक हावी होकर खेल रहे थे उन्होंने रक्षात्मक रवैया अपनाना शुरू कर दिया और ऐसे में भारतीय गेंदबाजों को दबदबा बनाने का मौका मिला और वे इसमें सफल भी रहे. अगर पहले 20 ओवर श्रीलंका के नाम रहे तो उसके बाद के खेल में सिर्फ भारतीयों के लिये तालियां बजी. एसीए वीडीसीए क्रिकेट स्टेडियम की पिच बल्लेबाजी के लिये अनुकूल दिख रही थी लेकिन रोहित शर्मा ने टास जीतकर श्रीलंका को बल्लेबाजी के लिये आमंत्रित किया.
बुमराह ने दानुष्का गुणतिलक (13) को जल्दी पवेलियन भेज दिया लेकिन थरंगा इससे दबाव में नहीं आये और उन्होंने खुलकर शाट खेलने को तवज्जो दी. पंड्या के सामने तीन अवसरों पर अपना विकेट गंवाने वाले बायें हाथ के इस बल्लेबाज इस भारतीय ऑलराउंडर के एक ओवर में लगातार पांच चौके लगाकर उनकी मनोवैज्ञानिक बढ़त को खत्म करने का सफल प्रयास किया. थरंगा ने केवल 36 गेंदों पर वनडे में अपना 36वां अर्धशतक पूरा किया. इसके बाद हालांकि स्पिनरों के सामने वह कुछ धीमे पड़ गये.
कुलदीप ने विशेषकर उन्हें परेशान भी किया लेकिन चहल के सामने वह अधिक सहज दिखे जिन पर उन्होंने तीन दर्शनीय छक्के भी लगाये. चहल ने इस बीच समरविक्रम को डीप कवर पर शिखर धवन के हाथों कैच कराकर यह साझेदारी जोड़ी. ऐसे मौके पर रोहित ने फिर से कुलदीप को दूसरे स्पैल के लिये बुलाया और उन्होंने अपनी पहली गेंद पर ही थरंगा को आउट करके उन्हें शतक बनाने से रोक दिया.
विकेटकीपर महेंद्र सिंह धौनी ने हमेशा की तरह अपनी चपलता दिखाकर उन्हें स्टंप आउट किया. उन्होंने इसी ओवर में फार्म में चल रहे एक अन्य बल्लेबाज निरोशन डिकवेला (आठ) को आउट करके श्रीलंकाई खेमे में खलबली मचा दी. पूर्व कप्तान एंजेलो मैथ्यूज (17) भी चहल की लेग ब्रेक पर बोल्ड हो गये. उन्होंने इसके बाद कप्तान तिसारा परेरा (छह) को भी नहीं टिकने दिया. पंड्या ने पुछल्ले बल्लेबाजों को पवेलियन भेजने में भूमिका निभायी.
टीमें

भारत : रोहित शर्मा (कप्तान ), शिखर धवन, श्रेयस अय्यर , दिनेश कार्तिक, मनीष पांडे, एम एस धौनी, हार्दिक पंड्या, एम एस वाशिंगटन सुंदर, भुवनेश्वर कुमार, युजवेंद्र चहल, जसप्रीत बुमरा, कुलदीप यादव, अजिंक्य रहाणे, अक्षर पटेल, सिद्धार्थ कौल.
श्रीलंका : तिसारा परेरा (कप्तान) ,उपुल थरंगा, धनुष्का गुणतिलका, लाहिरु तिरिमन्ने, असेला गुणरत्ने, सदीरा समरविक्रमा, निरोशन डिकवेला, धनंजय डिसिल्वा, एंजेलो मैथ्यूज, सचित पतिराना, सुरंगा लकमल, नुवान प्रदीप, अकिला धनंजया, चतुरंगा डिसिल्वा, दुष्मंता चामीरा, कुसल परेरा.

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *