Advertisements

गया:-स्टेशन को उड़ाने और प्रबंधक को धमकी देने की बात फ़र्ज़ी:-रेल पुलिस

गया : गया रेलवे स्टेशन प्रबंधक से नक्सलियों की ओर से पत्र भेज कर मांगी गयी रंगदारी और स्टेशन उड़ाने की धमकी मामले में शुक्रवार को नया मोड़ ले लिया है. भेजे गये लेटर को रेलवे और रेल पुलिस ने पूरी तरह से बेबुनियाद और फर्जी करार दिया है. रेल पुलिस का मानना है कि किसी शरारती तत्वों ने कहीं से लेटर पैड गायब कर जान बूझ कर परेशान करने का काम किया है. हालांकि, इस दिशा में रेल पुलिस संबंधित कांग्रेस कार्यकर्ता से पूछताछ भी करेगी. उन्हें लेटर पर लिखे राइटिंग की जांच भी करायेगी.

रेल डीएसपी सुनील कुमार ने बताया कि रंगदारी का मामला गलत है और स्टेशन उड़ाने की बात सही नहीं है. फिर भी रेल पुलिस अलर्ट है. गौरतलब है कि गुरुवार की देर रात माओवादियों द्वारा स्टेशन प्रबंधक को एक भेजा गया था. पत्र में उल्लेख किया गया है कि 10 दिनों के अंदर 20 लाख रुपये नहीं दी गयी तो स्टेशन को उड़ा दिया जायेगा. उन्होंने पत्र के जरिये यह भी कहा कि आप लोगों की सहायक गया पुलिस व झारखंड पुलिस कुछ नहीं करेगी. क्योंकि इन पुलिस वालों को हमलोग हर तरह से मदद करते है. पत्र मिलने के बाद स्टेशन प्रबंधक रेल थाना में नक्सलियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है. पुलिस मामले की छानबीन कर रही है.

कांग्रेस नेता से होगी पूछताछ
रेल पुलिस की एक टीम गिरिडीह थाने की पुलिस से बातचीत कर रही है. गिरिडीह थाने की पुलिस ने बताया कि कांग्रेस नेता को थाना में बुला कर पूछताछ की जायेगी. हालांकि, जांच में पता चला कि कांग्रेस नेता का लेटर पैड कुछ दिन पहले गायब हो गया था. इसकी शिकायत गिरिडीह थाने में की है. पुलिस हर बिंदुओं पर जांच करना शुरू कर दी है. पुलिस ने बताया कि भेजे गये पत्र में पता अनंत कुमार सिन्हा, भाकपा माओवादी संगठन झारखंड बरमासिया श्मशानघाट रोड गिरिडीह लिखा हुआ है.

गया रेलवे स्टेशन को किया गया अलर्ट
पत्र मिलने के बाद रेल डीएसपी सुनील कुमार, रेल इंस्पेक्टर रंजीत कुमार, प्रभारी थानाध्यक्ष सुनील कुमार, आरपीएफ इंस्पेक्टर व सीआइबी इंस्पेक्टर ने गया रेलवे स्टेशन को अलर्ट कर दिया है. रेल डीएसपी ने कहा कि पत्र झूठा हो या सही मेरा कर्तव्य बनता है कि मैं रेलवे स्टेशन पर आने-जाने वाले लोगों को सुरक्षा दें. हमलोग एकजुट होकर गया रेलवे स्टेशन पर सुरक्षा बढ़ा दिये है. ताकि, कोई अप्रिय घटना न घटे. उन्होंने बताया कि एक नंबर प्लेटफॉर्म से लेकर नौ नंबर प्लेटफॉर्म, ओवरब्रिज, पुरुष प्रतीक्षालय, महिला प्रतीक्षालय, वेटिंग हॉल, टिकटघर व पूछताछ कार्यालय सहित अन्य जगहों पर अतिरिक्त जवानों को तैनात किया गया है. रेल डीएसपी ने बताया कि इसकी मॉनीटरिंग मैं खुद करूंगा.

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *