गिरिराज ने जमीन हड़पने के आरोप को बताया गलत, कहा- तेजस्‍वी दिखायें प्रमाण

गिरिराज ने जमीन हड़पने के आरोप को बताया गलत, कहा- तेजस्‍वी दिखायें प्रमाण

10th February 2018 0 By Deepak Kumar

केंद्र सरकार में सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्योग राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) गिरिराज सिंह ने कहा है कि उनके उपर पटना के दानापुर में धोखाधड़ी कर जमीन हड़पने का जो आरोप लगा है, वह सरासर गलत है। तेजस्वी यादव ट्वीट करके बेवजह हायतौबा मचा रहे हैं।
आचार संहिता उल्लंघन के एक मामले में कोर्ट में पेशी के लिए लखीसराय आए मंत्री ने कहा कि जिस जमीन को लेकर विवाद खड़ा किया गया है, उसमें सवा दो कट्ठा जमीन उसने खरीदी है। उस जमीन का केवाला उनके पास है। 1961 से ही उस जमीन की रसीद कट रही है। इसका पूरा ब्यौरा वेबसाइट पर भी उपलब्ध है।
गिरिराज सिंह ने कहा कि तेजस्वी यादव सवा दो कठट्टा जमीन को दो एकड़ बता रहे हैं। इसका प्रमाण भी उन्हें दिखाना चाहिए। बेवजह इसे तूल दिया जा रहा है। अपनी ख़रीदगी जमीन का सभी दस्तावेज हमारे पास है। तेजस्वी बौखलाहट में अनर्गल बात कर रहे है

बता दें कि गिरिराज सिंह समेत 33 लोगों पर दानापुर थाने में जमीन को लेकर धोखाधड़ी, जालसाजी और जाति सूचक शब्दों का इस्तेमाल कर अपशब्द कहने के आरोप में प्राथमिकी दर्ज की गई है। प्राथमिकी एससी-एसटी की विशेष अदालत में एक परिवाद पत्र की सुनवाई के बाद न्यायालय के आदेश पर हुई है।

अनुसूचित जाति-जनजाति विशेष न्यायालय के अपर जिला न्यायाधीश के आदेश पर दानापुर पुलिस ने कार्रवाई की। थानाध्यक्ष संदीप कुमार के मुताबिक धोखाधड़ी और एससी-एसटी एक्ट के तहत कांड संख्या 54/18 दर्ज हुई है।
दानापुर के आशोपुर निवासी शिकायतकर्ता राम नारायण प्रसाद ने एससी-एसटी विशेष न्यायालय में याचिका दायर की थी, जिसमें कहा था कि धर्मेंद्र यादव सहित 33 लोगों ने साजिश रचकर उनकी दो एकड़ 56 डिसमिल जमीन को फर्जी कागजात के आधार पर खरीदा और बेचा है।
परिवाद पत्र में वादी ने आरोपितों पर बिना किसी स्वामित्व के जमीन खरीद बिक्री करने तथा अवैध तरीके से जमाबंदी कायम करवाने का आरोप लगाया था। आरोप में यह भी कहा गया था कि आरोपित 1957 से ही परिवादी के मामा बिपत राम की 2 एकड़ 60 डिसमिल जमीन का फर्जी तरीके से खरीद बिक्री करते आ रहे हैं। अभियुक्तों में केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह का नाम 25वें स्थान पर है।

जमीन हड़पने के आरोप में गिरिराज सिंह पर प्राथमिकी दर्ज होने के बाद नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने केंद्र सरकार और बिहार सरकार पर जमकर निशाना साधा। ट्वीट कर नीतीश कुमार से पूछा कि नीतीश जी, आपकी नाक के नीचे आपके दुलारे सहयोगी दल के वरिष्ठ नेता और आपके प्यारे केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने लगभग 3 एकड़ गरीबों की जमीन पर जबरन कब्ज़ा कर लिया है। जिसमें एफआइआर दर्ज की गई है तो क्या आप अब गठबंधन तोड़ेंगे? क्या आप इस्तीफ़ा देंगे अंतरात्मा बाबू? अब कहाँ पानी भर रही है आपकी नैतिकता? है कोई जवाब?
साथ ही तेजस्वी ने ट्वीट कर पीएम मोदी से भी कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी, क्या आपकी सरकार इसी ईमानदारी की बात करती है जहां गरीबों को घर देने की बजाय आपके कैबिनेट मंत्री गरीबों की जमीन पर ही कब्ज़ा कर रहे है? कृपया आप अपने स्तर से मामले को देखना, क्या पता ये मंत्री महोदय कहीं उन गरीबों को ही पाकिस्तान भेजने की बात ना करने लगे?
तेजस्वी ने उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी से पूछा कि देश के सबसे बड़े अफ़वाह मियां और ख़ुलासा मास्टर सुशील मोदी के मुंह में दही जम गया है। उनके आका नीतीश कुमार बंगले पर बंगले लिए जा रहे है। उनके परम सहयोगी केंद्रीय मंत्री गिरीराज गरीबों की जमीन कब्ज़ा रहे है। सुशील मोदी इन मुद्दों पर बिल में घुस गए है। कहां छुप रहे हो ख़ुलासा मियां?

Advertisements