चंपारण सत्याग्रह के शताब्दी वर्ष कार्यक्रम की श्रृंखला में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बुधवार को ज्ञान भवन से ‘बापू आपके द्वार’ तथा ‘गांधी कथा वाचन’ महाअभियान की शुरुआत करेंगे। राजधानी समेत राज्यभर के 800 स्कूली बच्चों की मौजूदगी में मुख्यमंत्री गांधी पर केंद्रित दो कहानियां ‘मिट्टी से नेता भी बनते हैं’ और ‘च से चम्पारण’ का पाठ करेंगे।

इसी दौरान राज्य के 85 हजार विद्यालयों में भी दोनों कहानियों का पाठ बच्चे करेंगे। कहानियां शिक्षा विभाग ने सभी विद्यालयों को भेज दी है। बिहार में बापू के विचारों को घर-घर पहुंचाने का महाभियान ‘बापू आपके द्वार’ की शुरुआत करते हुए मुख्यमंत्री महात्मा गांधी के अनुकरणीय संदेशों को समाहित करने वाले फोल्डर को भी विमोचित करेंगे। महाभियान के शुभारंभ समारोह की वेबका¨स्टग सभी जिला मुख्यालयों के नगर भवन या अन्य मुख्य प्रेक्षागृहों में किया जाएगा।

11 अक्टूबर से ही राज्यभर में 46 हजार साक्षरताकर्मी फोल्डर के साथ घर-घर दस्तक देंगे व बापू के विचारों को लोगों को पढ़कर सुनाएंगे। शिक्षा विभाग ने जन-जन तक इसे पहुंचाने के लिए डेढ़ करोड़ फोल्डर छपवाए हैं। उद्घाटन समारोह में उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी, शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा, लेखक सोपान जोशी, शिक्षाविद् रमाशंकर सिंह व मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह बतौर अतिथि मौजूद रहेंगे। कार्यक्रम की शुरुआत बापू के प्रिय भजन ‘वैष्णव जन तो तैने कहिए जी.’ से जबकि समापन ‘रघुपति राघव राजा राम.’ से होगा। बिहार संगीत नाटक अकादमी की सहायक सचिव विभा सिन्हा इसका गायन करेंगी।

11.30 बजे से 1.30 बजे तक चलने वाले इस समारोह के तुरंत बाद मुख्यमंत्री राज्यभर से आए 800 बच्चों के साथ ज्ञान भवन के निचले तल पर जमीन पर बैठकर भोजन करेंगे। जनशिक्षा निदेशक विनोदानंद झा ने बताया कि भोजन शुद्ध शाकाहारी होगा।

समारोह की तैयारियों की समीक्षा मंगलवार को देर रात तक शिक्षा विभाग के अफसरों ने ज्ञान भवन में की। प्रधान सचिव आरके महाजन, सचिव आरएल चौंग्थू, जनशिक्षा निदेशक विनोदानंद झा, प्राथमिक निदेशक एम. रामचन्द्रुडु, एमडीएम निदेशक विनोद सिंह आदि ज्ञान भवन में घंटों रहे। बच्चे कहां चप्पल खोलेंगे, कहां सीएम संग बैठ भोजन करेंगे, समेत एक-एक गतिविधियों की जगह तय की गयी।

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *