छपरा:खेत की जुताई कर रहे ट्रैक्टर चालक ने 7 साल के मासूम को 100 टुकडों में काट, बोरा में डाल कर फेंका

छपरा:खेत की जुताई कर रहे ट्रैक्टर चालक ने 7 साल के मासूम को 100 टुकडों में काट, बोरा में डाल कर फेंका

6th December 2018 0 By Kumar Ashwini

छपरा. सारण जिले के तरैया थाना क्षेत्र के फरीदपुर गांव में एक ट्रैक्टर चालक ने खेत में सात वर्षीय बच्चे को जोतने के दौरान कुचल दिया। जब देखा कि बच्चा मर गया है तो शव को रोटरी से सौ टुकड़े कर दिए। दिलदहला देने वाली वारदात बुधवार सुबह सात बजे की है।

फरीदपुरा पश्चिम टोला निवासी बैजनाथ सिंह का सात वर्षीय पुत्र गोलू कुमार जुताई के लिए ट्रैक्टर चालक को खेत दिखाने गया था। दोपहर तक बच्चा घर नहीं आया तो परिजनों ने खोजबीन शुरू की। लोगों ने करीब 10 घंटे तक खोजा। शाम करीब साढ़े पांच बजे बच्चे का कटा हुआ हाथ और पांव मिला, जिससे घटना का राज खुल गया। उसके बाद ग्रामीणों ने चालक को खोजना शुरू किया। लोगों ने ट्रैक्टर चालक को बुलाया। वह जैसे ही आया, वहां मौजूद लोगों ने उसे पकड़ लिया। 
 
शव देख चुप्पी साध गया चालक
जब चालक बच्चे के शव का टुकड़ा देखा तो मौन रह गया कुछ नहीं बोला। इसके बाद ग्रामीणों ने पुलिस को इसकी सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने चालक को लेकर उक्त खेत में गई जहां उसने बच्चें के शव के टुकड़े कर मिट्टी में गाड़ दिया था। 
 
परिजन जब नदी किनारे गए तो हाथ- पैर का टुकड़ा मिलाबच्चे के घर आकर चालक बोल दिया कि उसे शौच करने के लिए खेत के बगल में उतार दिया है। वह आ जाएगा। कई घंटों तक बच्चा घर वापस नहीं लौटा तो लोगों की चिंता बढ़ गई। वें लोग बच्चे की तलाश में निकले। परिवार के लोग खेत में गए। वहां भी कुछ पता नहीं चला। आस-पास जब नदी किनारे गए तो हाथ व पैर का टुकड़ा मिला। फिर लोगों को यकीन हो गया कि उसकी हत्या कर दी गई है। 
 
100 टुकड़ों को खेत से किया गया इकट्ठाग्रामीणों के अनुसार हत्या का साक्ष्य छुपाने की नियत से शव को रोटरी से टुकड़े-टुकड़े कर खेत में मिट्टी के साथ मिला दिया था। वहां से परिजनों ने अलग-अलग हुए टुकड़ों को इकट्ठा किया। करीब 100 हिस्सों में टुकड़ा बरामद हुआ। 
 
पहली कक्षा का छात्र था गोलू मृतक गोलू मध्य विद्यालय फरीदपुरा का प्रथम वर्ग का छात्र था। वह बुधवार की सुबह सात बजे अपने पिता के कहने पर खेत जोतने के लिए ट्रैक्टर चालक को खेत बताने चला गया। 
 
परिजनों का रो-रो कर बुरा हालगोलू अपनी तीन बहनों सीमा, रीना और रीमा में सबसे छोटा भाई था। गोलू से छोटा तीन माह का उसका एक छोटा भाई भी है। घटना के बाद मृतक की मां रागनी देवी और पिता बैजनाथ सिंह का रो-रो कर बुरा हाल है।

Advertisements