Advertisements

दुर्लभ प्रजाति के 260 कछुए छापेमारी में बरामद, यूपी निवासी 6 तस्कर गिरफ्तार

पूर्णिया के डगरुआ थानाक्षेत्र के बरसोनी टोलप्लाजा के पास संयुक्त छापेमारी में दुर्लभ प्रजाति के 260 कछुआ बरामद किया गया। कछुआ तस्करी के मामले में पुलिस व वन विभाग ने छापेमारी के दौरान अंतर्राज्यीय तस्करों के पास से एक पिकअप गाड़ी व चार मोबाइल बरामद किया।
मौके से पुलिस ने उत्तर प्रदेश के रहने वाले 6 तस्करों को भी गिरफ्तार किया है। इसमें अमेठी के जगदीशपुर थानाक्षेत्र के साकिन रानीनगर निवासी हजारी, पिपरपुर थानाक्षेत्र के साकिन पकड़ी निवासी अनिल कुमार, जगदीशपुर थानाक्षेत्र के साकिन गांधीनगर निवासी राजेश, मनोज कुमार, शनि और राजेश को गिरफ्तार किया। मामले में एसपी विशाल शर्मा ने बताया कि पुलिस को सूचना मिली थी कि अन्तर्राजीय तस्कर गिरोह पूर्णिया के रास्ते से दुर्लभ प्रजाति के कछुआ को लेकर जाने वाले हैं। सूचना मिलते ही पुलिस ने टीम गठित कर बरसोनी टोल प्लाजा पर सघन वाहन चेंकिग अभियान चलाया।
सूचना के आधार पर पुलिस ने यूपी नंबर की सफेद रंग की पीकअप गाड़ी को रुकने का आदेश दिया। पुलिस को देखते ही पिकअप वाले भागने की कोशिश करने लगे। इसके बाद पुलिस टीम ने तस्कारों को खदेड़ कर पकड़ा। पूछताछ के दौरान तस्करों ने बताया कि वे सभी मजदूर हैं। बीरेन्द्र नाम के युवक ने गोरखपुर में पिकअप में सामान लोड करवाकर दालकोला स्टेशन पहुंचाने के लिए कहा था। इस काम के बदले प्रत्येक मजदूर 2000 रुपये देने की बात हुई थी।

इस संबंध में प्रमंडलीय वन पदाधिकारी मिहिर कुमार झा ने बताया कि गंगा से निकाले गये इन कछुओं को बंगाल के रास्ते विदेश भेजा जाता है। उन्होंने बताया कि कुछ दिन पूर्व ही बरसोनी टोल प्लाजा के पास से 76 कछुए बरामद किए गये थे। इसमें गिरफ्तार तस्कारों को जेल भी भेज दिया गया था। बता दें कि इंडियन सॉफ्टशेल्ड टर्टल नाम के इन दुर्लभ कछुओं का अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर काफी डिमांड है। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में इन कछुओं की कीमत करोड़ों में आंकी गई है।
यूपी के इन कछुओं को बिहार और बंगाल के रास्ते बांग्लादेश, नेपाल और म्यांमार और चीन भेजा जाता है। वहां इसका उपयोग उत्तेजक दवाओं के साथ अन्य कई प्रकार की औषधी बनाने में होता है।

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *