पटना:दिनदहाड़े पिता-पुत्र की गोली मारकर हत्या, लोगों ने इस वजह को बताया कारण

मोकामा के घोसवरी में अपराधियों ने दिनदहाड़े बाप-बेटे को गोलियों से भून डाला। घोड़े पर सवार अपराधियों ने खेत में दौनी कर रहे रामविलास यादव (70) और उसके बेटे शंकर यादव उर्फ पप्पू यादव(40) पर ताबड़तोड़ फायरिंग की। गोलियों की बौछार के बीच दोनों को संभलने का मौका नहीं मिला। मौके पर ही दोनों ने दम तोड़ दिया। रामविलास और शंकर गोसाईं गांव के रहनेवाले थे।
घटना के पीछे रबी फसल काटने को लेकर दो गुटों के बीच हुआ विवाद है। दोनों पक्षों में पहले से अदावत चल रही थी। हत्या की खबर मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची। एसएसपी मनु महाराज के निर्देश पर विशेष पुलिस टीम छापेमारी में जुटी है। पुलिस का कहना है कि प्रथम दृष्टया यह बात सामने आयी है कि अपराधी दिवाकर ने अपने भाई की हत्याकांड में नामजद आरोपी नुनुलाल से बदला लेने के लिये उसके भाई और पिता की हत्या कर दी।
खून करने के बाद अपराधियों ने कहा- खबरदार..
हत्या करने आए घुड़सवार अपराधी हथियारों से लैस थे। उन्होंने बाप-बेटे को गोली मारने के बाद उनकी मौत का इंतजार किया। दोनों के दम तोड़ते ही अपराधियों ने धमकी भरे लहजे में कहा कि अगर किसी ने मेरे खिलाफ आवाज उठाने की हिम्मत की तो उसकी भी जान ऐसे ही जाएगी। इसके बाद दिवाकर सहित अन्य अपराधियों ने घूम-घूमकर फायरिंग की जिससे लोगों के बीच दहशत फैल गयी।
मौत की खबर मिलते ही दौड़े परिजन
रामविलास और शंकर की मौत की खबर मिलते ही परिजन खलिहान की ओर दौड़े। दोनों को मृत देख कोहराम मच गया। घर की महिलाओं और बच्चों की चीख-पुकार से पूरा माहौल गमगीन हो गया। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में कर पोस्टमार्टम के लिए बाढ़ भेज दिया। बाढ़ में रामविलास और उसके बेटे शंकर का पोस्टमार्टम किया गया।
फसल, खूनी खेल और बदला
घोसवरी में हुआ डबल मर्डर फसल काटने को लेकर हुए खूनी खेल और बदले का परिणाम है। कुछ दिनों पहले ओपी यादव ने विपिन यादव की फसल काट ली थी। इस विवाद में छह अप्रैल की देर शाम विपिन ने अपने साथियों के साथ ओपी यादव के घर पर हमला बोला था। उसके साथ गोसाईं गांव निवासी अपराधी दिवाकर यादव का भाई अरुण यादव भी शामिल था। अरुण यादव के पहुंचते ही ओपी यादव ने घर से अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी। अरुण को गोली लग गई और मौके पर ही उसने दम तोड़ दिया। इस मामले में मृतक अरुण के भाई द्वारा घोसवरी थाने में नुनुलाल यादव, दिनेश्वर यादव, ओपी यादव एवं श्रीकांत यादव के खिलाफ केस दर्ज किया था। अपने भाई अरुण की मौत का बदला लेने के लिए अपराधी दिवाकर यादव ने खूनी साजिश रच डाली और एक नामजद नुनुलाल के पिता और भाई को मौत के घाट उतार दिया।
पुलिस अपराधियों की तलाश में छापेमारी कर रही है। पटना के आसपास के इलाकों में विशेष टीम की नजर है। जल्द ही अपराधी पकड़ लिये जाएंगे।
– मनु महाराज, एसएसपी, पटना

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *