पार्षद करते रहे विनती, प्रशासन ने सीएम से मिलने से रोका

पार्षद करते रहे विनती, प्रशासन ने सीएम से मिलने से रोका

9th February 2018 0 By Deepak Kumar

भागलपुर। शहर में पानी की समस्या को लेकर गुरुवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मिलने पहुंचे पार्षदों को अफसरों ने डीआरडीए के मुख्य गेट पर ही रोक दिया। जबकि पार्षदों की अगुवाई कर रही पार्षद डॉ. प्रीति शेखर ने यह समझाने की कोशिश कीं कि वे भी सरकार की अंग हैं। वे यहां प्रदर्शन या विरोध करने नहीं आई हैं। ज्ञापन के जरिए सिर्फ यह बताना चाहती हैं कि जलापूर्ति के लिए जिम्मेदार एजेंसी पैन इंडिया और बुडको के कारण सरकार की छवि बिगड़ती जा रही है, लेकिन अफसरों ने उनकी एक भी नहीं सुनी। यहां सदर एसडीओ ने कहा कि पार्षदों का ज्ञापन लेकर मुख्यमंत्री तक पहुंचा दिया जाएगा। डीआरडीए में सफलता नहीं मिलने पर पार्षदों ने हवाई अड्डे की ओर रूख किया। यहां भी पार्षदों को गेट पर ही पुलिस और दंडाधिकारी ने रोक दिया। पार्षदों की बात जब सीएम तक नहीं पहुंची तो नगर निगम लौटकर डॉ. प्रीति शेखर ने पत्रकारों से कहा कि प्रशासन साजिश के तहत नहीं मिलने दिया। अफसर जनता की आवाज को दबाना चाह रहे हैं, लेकिन ऐसा नहीं होने दिया जाएगा। जन समस्याओं को उचित फोरम पर उठाया जाएगा। मुख्यमंत्री से मिलने का और भी कई रास्ते हैं। फैक्स, मेल के जरिए बात पहुंचाई जाएगी। जरुरत पड़ी तो पटना जाकर उनसे मिला जाएगा। उन्हें जानकारी दी जाएगी कि बुडको और पैन इंडिया जनता को प्रदूषित जलापूर्ति कर उनके स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ कर रही हैं। इस मौके पर पार्षद संजय सिन्हा, दिनेश तांती, प्रमोद लाल, संध्या गुप्ता, साबिहा रानू, सुनीता, खुशबू, अनिल पासवान, हंसल सिंह, उमर चांद, बबिता, शिवानी, प्रीति देवी, अरसदी बेगम, गोविंद बनर्जी, शशिकला देवी, अभिषेक, कुमारी कल्पना नेजाहत अंसरी, सदानंद चौरसिया, पंकज दास और सरयुग प्रसाद साह शामिल थे।

Advertisements