बिहार: मानपुर की अंजना को उसके घरवालों ने ही मार डाला!

बिहार: मानपुर की अंजना को उसके घरवालों ने ही मार डाला!

11th January 2019 0 By Deepak Kumar

मानुपर के पेहानी मोहल्ले की रहने वाले अंजना को उसके ही घर वालों ने मारा डाला। मामला प्रेम प्रसंग से जुड़ा है। पुलिस ने इस मामले में अंजना के पिता तराज पटवा और उसके दोस्त लीला पटवा को गिरफ्तार किया है।
पुलिस इन्हें जेल भेज रही है। इस मामले में पुलिस ने अंजना की मां, अंजना की बहन, कथित प्रेमी और कुछ अन्य संदिग्ध लोगों को हिरासत में रखा है। एसएसपी राजीव मिश्रा ने बताया कि मां और बहन का 164 का बयान कराया जाएगा। एसएसपी के मुताबिक मामला प्रथम दृष्टया घर वालों के द्वारा हत्या का प्रतीत होता है। लड़की की बहन ने पुलिस को बताया है कि अंजना 28 दिसंबर को गायब होने के बाद 31 दिसंबर की शाम छह बजे वापस आ गई। इसी दिन पिता ने अपने नजदीकी मित्र के साथ अंजना को कहीं भेज दिया। बाद में छह जनवरी को मानपुर प्रखंड के बुनियादगंज थाना क्षेत्र में अंजना की सिर कटी लाश बरामद हुई। एसएसपी ने साफ शब्दों में कहा कि अंजना के साथ दुष्कर्म किए जाने की पुष्टि नहीं हुई है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट अभी नहीं मिली है। लेकिन डॉक्टरों ने दुष्कर्म से इंकार किया है।

31 दिसंबर के वापस आने की बात से खुला राज
पुलिस के मुताबिक 28 दिसंबर को अंजना घर से गायब हुई थी। इसके बाद भी पुलिस को इसकी जानकारी नहीं दी गई। एसएसपी ने बताया कि घरवाले शुरू में एफआईआर दर्ज नहीं कराना चाहते थे। छह जनवरी को हत्या किए जाने से पहले अंजना 31 दिसंबर को अपने घर लौटी थी। पूछताछ में अंजना की बहन ने जब यह जानकारी दी तो पुलिस का शक गहरा गया। घरवालों से पूछताछ में यह बात सामने आयी कि पिता ने अपने दोस्त के साथ उसे कहीं भेजा था। अंजना के गायब रहने की स्थिति में चार जनवरी को इस मामले की प्राथमिकी दर्ज की गई थी। मालूम हो कि अंजना को इंसाफ दिलाने के लिए बुधवार को मानपुर के हजारों लोगों ने कैंडल मार्च निकाला था।
अंजना हत्याकांड में उसके परिजन को डरा रही गया पुलिस
गया पुलिस मृतक अंजना के परिजन को डरा रही है। अखिल भारतीय प्रगतिशील महिला एसोसिएशन (ऐपवा) बिहार की राज्य सचिव शशि यादव ने भाकपा माले, जिला कार्यालय में गुरुवार को कहा कि अंजना के परिजन पर डीएसपी दबाव बना रहे हैं। जांच में शुरू से ही पुलिस की भूमिका संदिग्ध दिख रही है। उल्टे मृतक के परिजन पर दबाव बनाकर आतंकित किया जा रहा है।

माले के प्रदेश कार्यसमिति सदस्य रामबली यादव ने घटना की सीबीआई से जांच कराने, परिजन की सुरक्षा एवं मुआवजा प्रदान करने एवं लापरवाही बरतनेवाले पुलिस पदाधिकारियों के विरुद्ध कार्रवाई करने को लेकर ऐपवा 16 जनवरी को डीएम के समक्ष प्रदर्शन करेगी।

Advertisements