बिहार : AK-47 मामले में NIA ने तस्करों के घरों पर मारा छापा, दो महिला हिरासत में

बिहार : AK-47 मामले में NIA ने तस्करों के घरों पर मारा छापा, दो महिला हिरासत में

6th December 2018 0 By Kumar Aditya

एनआइए द्वारा की गयी जा रही छापेमारी
मुंगेर : बिहार में एनआइए ने एके-47 मामले में शामिल तस्करों के खिलाफ बुधवार को बड़ी कार्रवाई की. एनआइए के 46 सदस्यीय टीम मुंगेर पहुंची और छह भागों में विभक्त होकर छापेमारी प्रारंभ किया. चार टीम जहां मुफस्सिल थाना क्षेत्र के हथियारों के गढ़ मिर्जापुर बरदह में चार तस्करों के घर मैराथन सर्च अभियान चलाया. वहीं एक टीम कासिम बाजार थाना क्षेत्र के बीचागांव स्थित कुख्यात अपराधी पवन मंडल के घर छापेमारी की. 
छापेमारी का नेतृत्व एनआइए के डीएसपी एसके मालवीय कर रहे थे. छापेमारी के दौरान मुंगेर के एएसपी हरिशंकर प्रसाद भी बरदह गांव पहुंच कर स्थिति का जायजा लिया. छापेमारी में दूरसंचार विभाग के छह पदाधिकारी को भी शामिल किया गया था. बताया जाता है कि बुधवार की अहले सुबह लगभग 7:30 बजे एनआइए की टीम एक दर्जन वाहनों पर सवार होकर पुलिस बल के साथ मिर्जापुर बरदह गांव पहुंची. जो चार भागों में बंट कर एके-47 मामले में गिरफ्तार चार तस्करों के घर छापेमारी प्रारंभ की. एनआइए ने तस्कर मो. इमरान आलम, मो. मंजर आलम, मो. शमशेर उर्फ वीरू एवं मो. इरफान के घर छापेमारी की. 
छापेमारी लगभग अपराह्न 12 बजे तक चली. इस दौरान एनआइए टीम के सदस्यों ने तस्करों के घर के एक-एक समान की जांच की. बताया जाता है कि तस्करों के घर से भारी मात्रा में बैंक पासबुक, कागजात, डायरी एवं अन्य काम के जरूरी सामान को जब्त किया. बताया जाता है कि एनआइए की टीम ने बरदह गांव से दो महिला को भी हिरासत में लिया है. जिसे वह अपने साथ लेकर चली गयी. वहीं दूसरी टीम कासिम बाजार थाना क्षेत्र के कुख्यात अपराधी पवन मंडल के बीचागांव स्थित घर पर छापेमारी की. जबकि तीसरी टीम सुरेश शर्मा के कासिम बाजार स्थित घर पर छापेमारी की. दोनों के घर से भारी मात्रा में कागजात को एनआइए ने जब्त किया है. 
इन तस्करों के घर के सर्च में सिर्फ एनआइए के सदस्यों ने किया. जबकि, छापेमारी के दौरान सुरक्षा को लेकर भारी संख्या में मुंगेर पुलिस के पदाधिकारी एवं जवान तैनात किये गये थे. छापेमारी के दौरान घर वालों को एक जगह बैठा दिया गया था. जबकि मुंगेर पुलिस एवं बाहरी किसी व्यक्ति को एनआइए की टीम अंदर नहीं आने दे रहे थे. एनआइए की टीम ने दूरसंचार विभाग के अधिकारियों की उपस्थिति में जब्त समान को सील किया गया. जिसे एनआइए अपने साथ ले गयी.
तस्करों के घर से कागजात व अन्य सामान किया जब्तमुंगेर. बुधवार को एनआइए की 46 सदस्यीय टीम ने मुंगेर के कासिम बाजार एवं मुफस्सिल क्षेत्र में एके-47 मामले में शामिल तस्करों के घरों में मैराथन सर्च अभियान चलाया. इस दौरान जहां तस्करों के घरों से कागजात, पासबुक एवं अन्य समानों को जब्त कर अपने साथ ले गयी. जबकि मिर्जापुर बरदह से दो महिला को भी पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया. छापेमारी के दौरान सुरक्षा का कड़ा प्रबंध मुंगेर पुलिस की ओर से किया गया था. छापेमारी के दौरान जहां ग्रामीणों की भीड़ लगी रही. वहीं शहर में दिन भर एनआइए की छापेमारी का चर्चा होता रहा. छापेमारी के दौरान कवरेज करने गये मीडिया कर्मियों को भी रोक दिया गया.
बरदह में चार तस्करों के घर एनआइए ने की छापेमारीएनआइए की टीम डीएसपी एसके मालवीय के नेतृत्व में मुंगेर पहुंची थी. छह टीम बनाया गया. जिसमें चार टीम मुफस्सिल थाना के मिर्जापुर बरदह गांव लगभग सुबह के 7:30 बजे पहुंच गया. एक साथ एनआइए की टीम एके-47 मामले में गिरफ्तार हथियार तस्कर मो. इमरान, मो. इरफान, मो. मंजर एवं शमशेर के घर छापेमारी प्रारंभ किया. घरों में सर्च के दौरान मात्र एनआइए के सदस्य ही शामिल थे. जबकि मुंगेर पुलिस बाहर में सुरक्षा में तैनात थे. एनआइए ने घर वालों को एक जगह बैठाये रखा. छापेमारी लगभग पांच से छह घंटे तक चलती रही. घर से बरामद होने वाले कागजातों की बारीकी से जांच किया जा रहा था. 
जांच के उपरांत एनआइए की टीम ने चार बंडलों में इन तस्करों के घर से बरामद कागजातों को सील कर अपने साथ ले गयी. विदित हो कि मो. इमरान ही पहला तस्कर है जिसका गिरफ्तारी से मुंगेर में एके-47 का भेद खुला था. 29 अगस्त को जमालपुर में पुलिस ने इमरान को तीन एके-47 के साथ गिरफ्तार किया था. जबकि मो. इरफान ने न्यायालय में आत्मसमर्पण कर दिया था. जिसकी निशानदेही पर एके-47 बरामद हो चुका है. मो. मंजर को पटना में पटना पुलिस ने गिरफ्तार किया. जिसने एके-47 हथियार को नक्सली एवं अपराधियों को बेचने का काम किया था. इतना ही नहीं मुख्य तस्कर मो. शमशेर को पुलिस ने उसकी बहन के साथ ही तीन एके-47 के साथ 6 सितंबर को गिरफ्तार किया था. शमशेर एवं उसका सेनिक भाई नियाजुल ही है जो मध्यप्रदेश के जबलपुर स्थित आर्म्स डीपो में तैनात पुरुषोत्तम लाल के माध्यम से गायब करवा कर मुंगेर से एके-47 के कारोबार को संचालित कर रहा था. बताया जाता है कि बरदह गांव से एनआइए सदस्यों ने दो महिला को भी हिरासत में लिया है. जिसकी पुष्टि नहीं की जा रही है.
कुख्यात पवन व सुरेश के घर चला सर्च ऑपरेशनएके-47 मामले में एनआइए की टीम ने कासिम बाजार थाना क्षेत्र के मकससपुर बीचागांव स्थित कुख्यात अपराधी पवन मंडल एवं मकससपुर धोबीटोला स्थित सुरेश शर्मा के घर घंटो सर्च ऑपरेशन चलाया. इस दौरान वहां से जो भी कागजात व जांच में काम आने वाले अन्य समानों को भी सील कर अपने साथ ले गये. विदित हो कि पवन मंडल कुख्यात अपराधी है. जो हत्या सहित अन्य कांडों में पिछले कई वर्षो से जेल में बंद है. जब एके-47 मामले का मुख्य कारोबारी मो. शमशेर की गिरफ्तारी हुई तो उसने पुलिस को बताया था कि वह पवन मंडल को भी हथियार बेचने के लिए देता था. जिसके बाद उसकी गिरफ्तारी हुई. जबकि सुरेश शर्मा को चार एके-47 बेचा गया था. सुरेश शर्मा ने कहां-कहां उन हथियारों को बेचा था. इस संबंध में भी जानकारी दी थी.
अबतक 21 एके-47 हो चुका है बरामदअब तब मुंगेर पुलिस ने 21 एके-47 हथियार जब्त किया है. इसके साथ ही दो बार भारी मात्रा में एके-47 के पार्टस बरामद किये थे. इस मामले में एक प्राथमिकी जमालपुर थाना में दर्ज हुआ था. जबकि छह मामला मुफस्सिल थाना में दर्ज किया गया है. अब तक मुंगेर पुलिस ने 31 तस्करों को गिरफ्तार कर जेल भेज चुका है. जबकि 20 तस्कर अब भी मुंगेर पुलिस की गिरफ्त से बाहर है.
11 तस्करों को एनआइए ले जा चुकी है अपने साथविदित हो एके-47 में दर्ज सात मामलों में एनआइए ने मात्र मुफस्सिल थाना में दर्ज कांड संख्या 323/18 को अपने जिम्मे लिया है. इस कांड से संबंधित सभी दस्तावेज एनआइए कोर्ट में चला गया है. पिछले दिनों एनआइए ने इस मामले में गिरफ्तार होकर मुंगेर जेल में बंद 11 तस्करों को अपने साथ पटना लेकर चली गयी. जिसे एनआइए कोर्ट में पेशी के बाद बेऊर जेल में रखा गया है. जिन तस्करों को एनआइए ले गयी है उसमें मध्य प्रदेश के हथियार आपूर्तिकर्ता पुरुषोत्तम लाल रजक, उसकी पत्नी चंद्रवती देवी, बेटा शिवेंद्र रजक, सीओडी के सिनिरयर स्टोर कीपर सुरेश ठाकुर, पवन मंडल, मो. इमरान, मो शमशेर उर्फ वीरो, नियाजुल, रिजवाना खातुन, सुरेश शर्मा एवं एक अन्य शामिल है.

Advertisements