नमामि गंगे योजना से भागलपुर में 241 करोड़ रुपए
ड्रेनेज सिस्टम पर खर्च होंगे। मंगलवार को पटना
में हुई कार्यशाला में नगर विकास मंत्री सुरेश कुमार
शर्मा ने इसकी स्वीकृति दी। मंत्री ने कहा है कि जल्द
ही इंजीनियरों की टीम ड्रेनेज सिस्टम का मैप तैयार
करेगी और काम शुरू होगा। उन्होंने होल्डिंग टैक्स की
वसूली के लिए पूरे प्रदेश में आउटसोर्सिंग व्यवस्था
लागू करने की बात कही। सात दिसंबर से पटना में
आउटसोर्स एजेंसी यह टैक्स वसूलेगी। एजेंसी को 9
फीसद कमीशन दिया जाएगा। इसी तर्ज पर प्रदेशभर
के नगर निगम में प्लान बनाने के निर्देश दिए। साथ ही
ईईसीएल कंपनी से शहर में स्ट्रीट लगाने का भी करार
भी किया गया। कार्यशाला में भागलपुर महापौर सीमा
साहा, उप महापौर राजेश वर्मा, नगर आयुक्त श्याम
बिहारी मीणा, स्थायी समिति सदस्य संजय कुमार
सिन्हा व अन्य मौजूद थे।
कार्यशाला में उप मुख्यमंत्री  सुशील कुमार मोदी ने
मेयर-डिप्टी मेयर व पार्षदों से कहा कि मुजफ्फरपुर
की तरह ही सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट हर नगर निगम
करें। मुजफ्फरपुर को उन्होंने मॉडल बताया। उन्होंने
डंपिंग ग्राउंड की जमीन के लिए हो रही परेशानी को
प्लांट लगाने से दूर होने की बात कही।

उपमहापौर राजेश वर्मा ने रीवर साइड रोड और स्मार्ट
रोड का दिया प्रजेंटेशन

उप महापौर राजेश वर्मा ने बताया कि
कार्यशाला में रीवर साइड रोड से लेकर
स्मार्ट रोड का प्रेजेंटेशन भी दिखाया
गया।आज भी विभिन्न योजनाओं
की जानकारी दी गई। जल्द ही लाजपत पार्क व टाउन
हॉल के जीर्णोद्धार का कार्य शुरू हो जाएगा।नये साल में कचहरी चौक पर ट्रैफिक सिग्नल सिस्टम की भी शुरूआत हो जाएगी।

कार्यशाला में शामिल होने के बाद उप महापौर राजेश वर्मा ने अपने फेसबुक टाईमलाईन पर लिखा कि बिहार सरकार के नगर एवं आवास विभाग के द्वारा दो दिवसीय कार्यशाला में भागलपुर को तीन बड़ी योजनाएं से सम्मानित किया गया जिसमें नमामि गंगे के तहत सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट के लिए 404 करोड रुपए एवं पूरे शहर के ड्रेनेज सिस्टम के लिए 241 करोड रुपए देने की घोषणा की गई साथ ही साथ EESL समूह के साथ पूरे भागलपुर में स्ट्रीट लाइट की योजना को स्वीकृति प्रदान की गई…

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *