मरीज मौत से जूझ रहा था डॉक्टरों ने दो घंटे तक छुआ तक नहीं

मरीज मौत से जूझ रहा था डॉक्टरों ने दो घंटे तक छुआ तक नहीं

14th June 2018 0 By Deepak Kumar

आदमपुर के हनुमाननगर के रहने वाले आलोक कुमार (38) को सड़क दुर्घटना में घायल होने के बाद बुधवार तड़के मायागंज अस्पताल में भर्ती कराया गया, लेकिन समय से इलाज नहीं होने के कारण उनकी मौत हो गई। परिजनों ने डॉक्टरों पर लापरवाही का आरोप लगाया है। वहीं मायागंज अस्पताल के अधीक्षक डॉ. आरसी मंडल ने मामले की जांच कर दोषियों पर कार्रवाई की बात कही है।
जानकारी के मुताबिक, प्राइवेट कंपनी में डिपो ऑडिटर आलोक कुमार मंगलवार देर रात महादेव सिनेमा स्थित गोदाम में माल अनलोड कराकर बाइक से घर जा रहे थे। बूढ़ानाथ में अज्ञात वाहन ने धक्का मार दिया, जिसके बाद वह गंभीर रूप से घायल हो गए। परिजन उन्हें मायागंज अस्पताल लेकर गए, जहां इमरजेंसी में भर्ती कराया। सीओटी में मौजूद डॉक्टर बीएचटी पर मरीज का एक्सरे जांच लिखकर चले गये। एक्सरे रूम में तैनात स्टाफ ने सुबह पांच बजे का वक्त दिया। इस दौरान परिजन डॉक्टर से इलाज के लिए गुहार लगाते रहे। लेकिन एसीओ रूम में बैठे तीन डॉक्टरों में से एक ने भी मरीज के बेड तक जाना मुनासिब नहीं समझा। आखिरकार आलोक को इमरजेंसी के गैलरी में नीचे बेड पर लिटाया गया। पांच बजे एक्सरे हुआ। साढ़े छह बजे एसओडी डॉ. पवन झा ने सीओटी में आलोक के सीने में चेस्ट ट्यूब डालकर दुर्घटना के बाद अंदर जमा खून को बैग में निकालने लगे। मरीज को फिर से इमरजेंसी के सर्जरी वार्ड के बेड नंबर 15 पर ले जाया गया। सुबह सवा आठ बजे मरीज के चेस्ट ट्यूब से लगा बैग खून से भर गया। डॉक्टर ने बैग बदलने का काम तकनीशियन का बताया तो तकनीशियन ने नर्स का। वहीं नर्स डॉक्टर का काम कहकर पल्ला झाड़ने लगी। पौने नौ बजे इसकी शिकायत कंट्रोल रूम के मैनेजर से की तो उसकी पहल पर ओटी से एक व्यक्ति आया और उसने बैग को खाली किया और ट्यूब की पाइप को ब्लॉक कर दिया। इसके बाद पाइप से खून पास न होने के कारण मरीज की हालत और बिगड़ गयी और मरीज के मुंह से खून निकलने लगा। परिजनों ने फिर डॉक्टरों से अपील की, तब जाकर एसीओ रूम में बैठे दो डॉक्टर मरीज के बेड तक पहुंचे। डॉक्टरों ने नौ बजकर सात मिनट पर नब्ज देखकर मरीज को मृत घोषित कर दिया।
कोट

दोषी डॉक्टर, नर्स व ओटी असिस्टेंट के भूमिका की जांच होगी। दोषी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जायेगी।
अस्पताल अधीक्षक, आरसी मंडल

Advertisements