माेहल्ले का प्यार था, थाने में हुआ निकाह, ऐसे हुई दोनों की विदाई

माेहल्ले का प्यार था, थाने में हुआ निकाह, ऐसे हुई दोनों की विदाई

9th November 2018 0 By Deepak Kumar

साहेबगंज मोहल्ले के वार्ड संख्या 10 के मो. मेहताब आलम बेग और सादिया का विश्वविद्यालय थाना में गुरुवार को निकाह हुआ। निकाह के बाद मो. मेहताब बाइक से पत्नी को लेकर घर गया।
मो. मुमताज आलम बेग के 30 वर्षीय पुत्र मेहताब और मो. साद की पुत्री 25 सादिया का बीते एक साल से प्रेस संबंध था। दोनों के घर के बीच 500 मीटर की दूरी है। मेहताब गोवा में निजी कंपनी में एनिमेशन का काम करता है। वहीं सादिया ने हाल ही में मारवाड़ी कॉलेज से स्नातक की पढ़ाई पूरी की है। दानों की ओर से कई बार शादी का प्रयास हुआ। लेकिन लड़के के परिवार वाले राजी नहीं हुए। बात नहीं बनने पर बुधवार को दिन में सुबह 10 बजे लड़की घर से चली गई। शक होने पर लड़की के घर वालों ने खोजबीन की कुछ पता नहीं चला। वार्ड संख्या 10 के पार्षद प्रतिनिधि मो. इफ्तेखार हुसैन ने बताया कि लड़के के घर पर खोज-बीन की गई तो लड़का वहां भी नहीं था। इससे लड़की पक्ष वालों का शक और भी गहरा हो गया।
लड़के का एक और घर हबीबपुर मोहल्ले में दोनों के होने की जानकारी स्थानीय लोगों को मिली। रात 12 बजे के करीब हबीबपुर पंचायत एकता मंच के सदर वर्दी खान के साथ लोग वहां पहुंचे। वहां लड़का-लड़की दोनों मौजूद थे। दोनों को वहां से साहेबगंज लाया गया। वहां विवाद बढ़ता देख रात्रि में विश्वविद्यालय थाना लाया गया।

पुलिस के हस्तक्षेप के बाद निकास के लिए तैयार हुए
विश्वविद्यालय थानाध्यक्ष ने बताया कि सुबह में दोनों पक्षों के करीबी लोगों को बुलाकर समझाया गया। इसके बाद हाफिज शादाब खान ने बिना किसी दहेज के निकाह कराया। लड़की के पिता(दिवंगत) नहीं होने के कारण शादिया के चाचा मो. बबलू ने लड़की का हाथ लड़के को सौंपा। इसके बाद मो. मेहताब, बेगम सादिया को बाइक से लेकर साहेबगंज स्थित अपने घर के लिए रवाना हुए। इस अवसर पर लड़की के मां मो. नाजिनी बैगम सहित दानों पक्ष के 50 से ज्यादा लोग मौजूद थे।

Advertisements