राष्ट्रीय अधिवेशन में लगे अबकी बार फिर मोदी सरकार के नारे, आज पीएम देंगे जीत का मंत्र

राष्ट्रीय अधिवेशन में लगे अबकी बार फिर मोदी सरकार के नारे, आज पीएम देंगे जीत का मंत्र

12th January 2019 0 By Deepak Kumar

भारतीय जनता पार्टी (Bhartiya Janta Party) की तरफ से पार्टी के आयोजित दो दिवसीय राष्ट्रीय अधिवेशन (National convention) का आज दूसरा दिन है। इस अधिवेशन में शीर्ष नेता, पदाधिकारी, निर्वाचित प्रतिनिधि और जिला स्तर के प्रमुख शामिल हुए हैं।
राष्ट्रीय अधिवेशन के दूसरे दिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह रामलीला मैदान पहुंच चुके हैं। गृह मंत्री राजनाथ सिंह, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, वित्तमंत्री अरूण जेटली और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मौजूद है

अधिवेशन के पहले दिन शुक्रवार को पार्टी ने दो संकल्प लिए लिए- पहला था कृषि और खेती से जुड़े मुद्दे पर और दूसरा था सोशल सेक्टर को लेकर। जिसमें आनेवाले चुनावों को देखते हुए किसानों की निराशा, ग्रामीण क्षेत्रों में आय का कम होते जाना, अगड़ी जातियों के गुस्से और नौकरी को लेकर पार्टी ने चिंता जाहिर करते हुए इस पर ध्यान केन्द्रित करने की कोशिश की।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज यानि शनिवार को दो दिवसीय अधिवेशन के आखिरी दिन समापन सत्र के दौरान संबोधित करेंगे। चुनाव से पहले संभवत: इतने बड़े स्तर पर पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ उनकी यह आखिरी मुलाकात होगी।

उधर, लोकसभा चुनावों के मद्देनजर भाजपा का यह राष्ट्रीय अधिवेशन काफी अहम माना जा रहा है। इस अधिवेशन के सहारे पार्टी के केन्द्रीय नेतृत्व देश भर की सभी 545 लोकसभा सीटों पर तो नजर रखेगा । इसके साथ ही देश में किसी भी राज्य की तुलना में यूपी से आने वाली सबसे ज्यादा 80 सीटों पर फोकस करेगा।
केन्द्रीय नेतृत्व ने प्रदेश में 73 से ज्यादा सीटें अपनी झोली में गिराने का लक्ष्य तय किया है। ऐसे में इस राष्ट्रीय अधिवेशन में पार्टी का हाईकमान यूपी को विशेष तौर पर अपने राडार पर लेगा। हालांकि, पार्टी ने सपा-बसपा के गठबंधन को भेदने की शुरूआत प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मार्फत शुरू कर दी है।
अधिवेशन में पार्टी का केन्द्रीय नेतृत्व सामान्य वर्ग को दिए गए 10 फीसदी आरक्षण को लेकर पड़ने वाले प्रभाव की समीक्षा भी प्रदेश पदाधिकारियों के साथ करेगा। इसी के साथ चुनाव के दौरान चलने वाले कार्यक्रमों और अभियानों की रूपरेखा भी तैयार की जाएगी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की जनसभाओं की तादाद और स्थानों के बारे में भी पार्टी का केन्द्रीय नेतृत्व रणनीति बनाएगा।

Advertisements