लोकसभा चुनाव के लिए NDA में नया समीकरण, BJP को छोड़नी होगी एक आरक्षित सीट

लोकसभा चुनाव के लिए NDA में नया समीकरण, BJP को छोड़नी होगी एक आरक्षित सीट

20th January 2019 0 By Satyam Kashyap

लोकसभा चुनाव (LokSabha Elections) के लिए एनडीए (NDA) में सीटों को चिह्नित करने का काम अंतिम चरण में है। किस सीट पर कौन दल के उम्मीदवार होंगे, इसका औपचारिक ऐलान कभी भी हो सकता है। अधिक संभावना है कि सीटों का ऐलान दिल्ली में एनडीए के वरिष्ठ नेताओं में जदयू (JDU) अध्यक्ष सीएम नीतीश कुमार, भाजपा (BJP) अध्यक्ष अमित शाह और लोजपा (LJP) सुप्रीमो रामविलास पासवान संयुक्त रूप से करें। तय फार्मूले के अनुसार जदयू और भाजपा को 17-17 और लोजपा को छह सीटों पर चुनाव लड़ना है। .

सीटों के चयन में सभी दल अपनी-अपनी परम्परागत सीटों पर उम्मीदवार उतारने की नीति पर काम कर रहे हैं। चूंकि 2014 के लोकसभा चुनाव में जदयू एनडीए का घटक दल नहीं था तो 2009 में लोजपा एनडीए का हिस्सा नहीं था। ऐसे में इस बार के लोकसभा चुनाव में एनडीए में नया राजनीतिक समीकरण बना है।

नए समीकरण में सबसे अधिक भाजपा को ही कुर्बानी देनी पड़ रही है। 2014 में 30 सीटों पर चुनाव लड़कर 22 सीटों पर जीत हासिल करने वाली भाजपा इस बार 17 पर ही लड़ेगी, लेकिन ये 17 सीटें भी कौन-कौन होगी, सहयोगियों से विमर्श के बाद ही तय हो रही है। प्रदेशस्तरीय नेता आपसी विमर्श में इस बात पर अधिक जोर दे रहे हैं कि तीनों दलों की परम्परागत सीटों के साथ ही जिताऊ उम्मीदवारों का भी ख्याल रखा जाए। लिहाजा चयन में यह देखा जा रहा है कि किस दल के किस उम्मीदवार को सीट देने से वहां जीत की संभावना अधिक होगी।.

एक आरक्षित सीट छोड़नी होगी

बिहार में छह सुरक्षित सीट हैं। इसमें तीन सीट हाजीपुर, समस्तीपुर व जमुई पर लोजपा का कब्जा है, वहीं, सासाराम, गया व गोपालगंज भाजपा के। जदयू की कोशिश है कि कम से कम एक आरक्षित सीट पर जरूर पार्टी का उम्मीदवार खड़ा हो। चूंकि गया सीट भाजपा की परम्परागत सीट रही है। ऐसे में अगर भाजपा को एक आरक्षित सीट छोड़नी होगी तो वह गोपालगंज व सासाराम में से ही कोई एक होगी।

ऐसा हुआ तो पार्टी के दो मौजूदा सांसदों में से किसी एक को कहीं और एडजस्ट किया जा सकता है। जदयू-भाजपा के वरिष्ठ नेताओं की मानें तो वे हरेक प्रमंडल में कम से कम एक-एक उम्मीदवार खड़ा करने की तैयारी है। जदयू-भाजपा के वरिष्ठ नेताओं की मानें तो वे हर प्रमंडल में कम से कम एक-एक उम्मीदवार खड़ा करने की तैयारी है।

Advertisements