वर्ल्ड बैंक की अगली अध्यक्ष बन सकती हैं इवांका ट्रंप

वर्ल्ड बैंक की अगली अध्यक्ष बन सकती हैं इवांका ट्रंप

14th January 2019 0 By Rahul Raj

डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप वर्ल्ड बैंक की अगली अध्यक्ष हो सकती हैं। वर्ल्ड बैंक के मौजूदा अध्यक्ष जिम योंग किम ने सोमवार को ऐलान किया कि वे जनवरी के आखिरी तक अपना पद छोड़ देंगे। इसके बाद से ही वर्ल्ड बैंक के अगले अध्यक्ष की तलाश शुरू हो गई है. इवांका को इससे पहले अपने पिता डोनाल्ड ट्रंप के कारोबार और अपनी खुद की लाइफस्टाइल और फैशन से जुड़ी मैगजीन में बिजनेस का अनुभव है।

इवांका फिलहाल व्हाइट हाउस की सलाहकार हैं। उनके अलावा वर्तमान ट्रेजरी ऑफिसर डेविड मलपास, पूर्व राजदूत निक्की हेली, इंटरनेशनल डेवलपमेंट के हेड मार्क ग्रीन भी वर्ल्ड बैंक अध्यक्ष की रेस में शामिल बताए जा रहे हैं। वर्ल्ड बैंक बोर्ड ने गुरुवार को कहा था कि नए अध्यक्ष के लिए अगले महीने से नॉमिनेशन स्वीकार किए जाएंगे और अप्रैल के मध्य तक नए अध्यक्ष की नियुक्ति कर दी जाएगी। गौरतलब है कि मौजूदा अध्यक्ष जिम योंग किम का कार्यकाल अभी तीन साल शेष था। बताया जा रहा है कि वे जलवायु परिवर्तन पर ट्रंप की नीतियों से खुश नहीं थे।

आपको बता दें कि वर्ल्ड बैंक पर हमेशा से अमेरिका का दबदबा रहा है। अमेरिका ही वर्ल्ड बैंक का सबसे बड़ा हिस्सेदार भी है। यहीं नहीं वर्ल्ड बैंक के आज तक जितने भी अध्यक्ष हुए हैं, वे सभी अमेरिकी ही रहे हैं। इस बात को लेकर दुनिया के दूसरे देश शिकायत करते रहे हैं। बता दें कि कई ग्लोबल इंस्टीट्यूशन जैसे वर्ल्ड बैंक ने ट्रंप प्रशासन का विरोध किया है, लेकिन अब अध्यक्ष पद के लिए किसी का नाम सुझाने को कहा है।

यहाँ गौर करने वाली बात है कि वर्ल्ड बैंक (WB) के प्रेजिडेंट जिम यॉन्ग किम (Jim Yong Kim) ने सोमवार को ऐलान किया कि वह जनवरी के आखिर में इस्तीफा दे देंगे। किम जलवायु परिवर्तन पर ट्रंप प्रशासन की नीति से नाखुश हैं। कार्यकाल समाप्ति के तीन वर्ष पहले किम का पद छोड़ना ट्रंप ऐडमिनिस्ट्रेशन और अन्य देशों के बीच कटु संघर्ष को हवा दे सकता है। बाकी देश वर्ल्ड बैंक पर अमेरिकी दबदबे की शिकायत करते रहते हैं।

द्वितीय विश्व युद्ध की समाप्ति के बाद 189 देशों का यह बैंक अस्तित्व में आया। तब से आज तक इसके सारे प्रमुख अमेरिकी ही रहे हैं। दुनिया के विभिन्न देशों को लोन देने वाली इसकी सहयोगी संस्था अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) की अगुवाई हमेशा की यूरोपियन ने ही की है। चीन समेत अन्य एशियाई राष्ट्रों में इस परंपरा की मुखालफत की है। अमेरिका वर्ल्ड बैंक में सबसे बड़ा हिस्सेदार है।

Advertisements