स्मार्ट सिटी भागलपुर में खुलेगा स्मार्ट ट्रैफिक थाना

जिले को जाम से मुक्ति दिलाने के लिए पुलिस प्रशासन ने एक बार फिर पहल की है। इसके लिए शहर में स्मार्ट और आस-पास के इलाकों में सामान्य ट्रैफिक थाना खोलने का प्रस्ताव वरीय पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) आशीष भारती ने आइजी प्रोविजन सह नोडल पदाधिकारी, यातायात बिहार को भेजा है..

भागलपुर। जिले को जाम से मुक्ति दिलाने के लिए पुलिस प्रशासन ने एक बार फिर पहल की है। इसके लिए शहर में स्मार्ट और आस-पास के इलाकों में सामान्य ट्रैफिक थाना खोलने का प्रस्ताव वरीय पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) आशीष भारती ने आइजी प्रोविजन सह नोडल पदाधिकारी, यातायात बिहार को भेजा है। एक नगर निगम क्षेत्र में तथा दूसरा कहलगांव या सुल्तानगंज में खोलने की अनुशंसा की गई है।

दो थाना खोलने के संबंध में एसएसपी ने तर्क दिया है कि जितनी आबादी पर ट्रैफिक थानों का सृजन किया जाता है वह आधार भागलपुर में है। पटना और गया जिले में दो ट्रैफिक थाने हैं। भागलपुर से कम आबादी वाले जिले छपरा और मुंगेर में भागलपुर से अधिक पुलिस बलों की स्वीकृति है। यहां तुलनात्मक दृष्टि से अफसर और पुलिस बल कम हैं। दो ट्रैफिक थानों के सृजन के साथ कुल 415 बलों की आवश्यकता महसूस की गई है। कहा गया है कि जिला में 63 बल उपलब्ध हैं तथा 352 की जरूरत है। पुलिस बलों के साथ वाहन, क्रेन, जैकेट, ट्रॉली, वायरलेस सेट, वाकी-टॉकी, लाइट स्टिक, ड्रैगन लाइट, सीसीटीवी और बॉडी कैमरे की भी मांग की गई है।

हॉर्न की तेज आवाज से बहरे हो रहे लोग
लगातार हो रही वृद्धि, गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के कारण आसपास के दर्जन भर जिलों से बच्चे यहां पढ़ने आते हैं। यहां मेडिकल कॉलेज, इंजीनिय¨रग कॉलेज और कृषि विवि सहित कई कोचिंग संस्थान हैं। विक्रमशिला सेतु से प्रतिदिन दस हजार वाहन गुजरते हैं। शहर में ई-रिक्शा और ऑटो की संख्या में वृद्धि हो रही है। अपार्टमेंट और मॉल के बाहर पार्किंग नहीं है। सड़क अतिक्रमित हो गई है। जगदीशपुर, कजरैली, कहलगांव, सबौर से वाहनों का प्रवेश सेतु पर होता है। एनएच-80 जर्जर है। बाइपास का निर्माण अधूरा है। शहर में ऑटो या बस पड़ाव का सही निर्धारण नहीं है। यहां दो लेन का सेतु है, जो पर्याप्त नहीं है।

कई मार्गो में ट्रैफिक नियंत्रण आवश्यक

विक्रमशिला सेतु सहित जीरोमाइल से कहलगांव तक ट्रैफिक नियंत्रण आवश्यक है। जीरोमाइल, बबरगंज, इशाकचक, मोजाहिदपुर, जगदीशपुर, आदमपुर, बरारी, खलीफाबाग, नाथनगर और सुल्तानगंज में ट्रैफिक की व्यवस्था जरूरी है। रेलवे स्टेशन से कोतवाली, तातारपुर, हबीबपुर में ट्रैफिक नियंत्रण आवश्यक है।

भागलपुर शहर का हो रहा विस्तार

एसएसपी ने कहा है कि 2011 की जनगणना के अनुसार नगर निगम क्षेत्र की आबादी 4 लाख 10 हजार बताई गई है। आसपास के कई पंचायत हबीबपुर, मधुसूदनपुर, जगदीशपुर, बरारी, जीरोमाइल, लोदीपुर क्षेत्र नगर की तरह विकसित हो रहा है। इन इलाकों में आवासों की संख्या बढ़ रही है। इसके पूर्व 27.7.2011 को भागलपुर में यातायात थाना को स्वीकृति मिली थी। इसके साथ ही 63 पद स्वीकृत किए गए थे। मालूम हो कि महत्वपूर्ण स्थल और चौराहे पर पुलिस पदाधिकारियों का आकलन कर 2017 में प्रस्ताव भेजा गया था।

स्मार्ट सिटी के लिए सबसे पहले चयनित

एसएसपी ने कहा है कि भागलपुर स्मार्ट सिटी के लिए चयनित होने वाला राज्य का पहला जिला है। लिहाजा यहां स्मार्ट ट्रैफिक की जरूरत है। सेतु पर दवाब बढ़ रहा है। चंपानाला और घोरघट पुल क्षतिग्रस्त है। ट्रक को स्टीमर, छोटे वाहनों को पीपा पुल और गंगा नदी पार करने के लिए फोर लेन सेतु की जरूरत है।

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *