BHAGALPUR

24 घंटे सेतु पर वन-वे ट्रैफिक व्यवस्था, एक्सपेंशन ज्वाइंट बदलने का काम शुरू

विक्रमशिला सेतु का एक्सपेंशन ज्वाइंट बदलने का काम बुधवार को शुरू हो गया।

 

बिहार राज्य पुल निर्माण निगम, खगड़िया के अधिकारियों के अनुसार भागलपुर की ओर एक ओर एक्सपेंशन ज्वाइंट उखाड़ने का काम सुबह दस बजे शुरू हुआ और रात आठ बजे तक चला। गुरुवार को भी एक्सपेंशन ज्वाइंट लगाया जाएगा। इसे लगाने में भी आठ-नौ घंटे लगेंगे। रबर निर्मित एक्सपेंशन ज्वाइंट को हटाकर लोहा निर्मित ज्वाइंट लगाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि पूरी तरह से सेट होने में कम से कम एक सप्ताह लगेगा। इसलिए पहले एक ओर से बदलने के बाद दूसरे तरफ का एक्सपेंशन ज्वाइंट उखाड़ कर लगाने का काम होगा। कुल आठ एक्सपेंशन ज्वाइंट बदले जाएंगे। 11 मीटर लंबे एक्सपेंशन ज्वाइंट बदलने में 41 से 42 दिन लग सकता है। जहां-जहां एक्सपेंशन ज्वाइंट बदलने का काम होगा उसके 10-12 मीटर के दायरे में 24 घंटे के लिए वन-वे ट्रैफिक की व्यवस्था रहेगी। एक एक्सपेंशन ज्वाइंट का मूल्य 12,500 रुपये प्रति मीटर है। एक्सपेंशन ज्वाइंट बदलने के लिए 30 मजदूर लगाए गए हैं। लोहा निर्मित एक्सपेंशन ज्वाइंट की लाइफ दस साल है। वन-वे ट्रैफिक के अंतर्गत आठ-दस मिनट तक वाहनों को रोका जा रहा है। हालांकि इस दौरान दुपहिया वाहन चालकों से परेशानी का सामना करना पड़ा। आगे निकलने की होड़ में जान जोखिम में डालकर कई चालक फुटपाथ पर मोटरसाइकिल चलाते देखे गए। पुल पर क्रेन की व्यवस्था की गई है। किसी वाहन के खराब होने पर क्रेन के सहारे पुल से हटा दिया जाएगा, ताकि पुल पर जाम नहीं लगे। अधिकारियों ने बताया कि पहले दिन काम के दौरान पुल पर जाम नहीं लगा। इसलिए मजदूरों को ज्यादा परेशानी का सामना नहीं करना पड़ा। मजदूर, कार्य एजेंसी रिबिल्ड स्ट्रक एसोसिएट और पुल निर्माण निगम के कर्मी भी ट्रैफिक व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस जवानों के सहयोग कर रहे हैं।

आइआइटी की रिपोर्ट के बाद बीच गंगा में बिय¨रग बदलने का होगा काम

भागलपुर : बिहार राज्य पुल निर्माण निगम के अधिकारियों ने बताया कि बीच गंगा वाले हिस्से में सेतु की खराब आठ बिय¨रग खराब है। आइआइटी दिल्ली की रिपोर्ट के बाद बिय¨रग बदलने का काम शुरू होगा। क्षतिग्रस्त रेलिंग की भी जल्द मरम्मत कराई जाएगी। जुलाई तक पुल मरम्मत कार्य पूरा करने की योजना है।

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *