MLC नीरज कुमार ने तेजस्वी को लिखा पत्र, पूछा- कौन है राजद में असामाजिक तत्व ?

बिहार में पक्ष-विपक्ष एक-दूसरे को घेरने का कोई भी मौका नहीं छोड़ रहे है. वहीं, लगातार एक-दूसरे के गढ़ में सेंधमारी का प्रयास भी जारी है. इसी बीच, तेजप्रताप यादव के राजद खेमे में ही हमले ने विपक्ष को एक और मौका दे दिया है. यही कारण है कि विपक्ष इस मौके को यूं ही खोना नहीं चाहता है. जदयू प्रवक्ता व विधान पार्षद नीरज कुमार ने अब राजद नेता व बिहार विधानसभा में नेता विरोधी दल तेजस्वी यादव को पत्र लिख कर बिहार की सियासत को गरमा दिया है. उन्होंने मंगलवार को तेजस्वी यादव पर निशाना साधा है. नीरज कुमार ने पत्र लिख पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव से उन असामाजिक लोगों के नामों का खुलासा करने को कहा है, जिनका जिक्र तेजप्रताप यादव ने अपने बयान में उनसे किया था.

नीरज कुमार ने कहा कि अब तो यह सच साबित हो गया कि राजद ने राजनीति में’लंपटीकरण’की शुरुआत की है. जब हमलोग कहते थे, तब आपको और आपके प्रवक्ताओं को तकलीफ होती थी. लेकिन, अब तो आपके बड़े भाई और राज्य के पूर्व मंत्री ही कह रहे हैं. नीरज ने तेजस्वी यादव और राजद पर कई आरोप लगाये हैं. नीरज ने अपने बयान में रामचंद्र पूर्व को भी निशाने पर लिया. उन्होंने कहा है कि रामचंद्र पूर्वे कितना अपमान सहेंगे? लगता है कि आपने एमएलसी के एवज में अभी तक कोई जमीन या संपत्ति इस परिवार के नाम नहीं की, यही कारण है कि आपको आज एमएलसी बनने के कारण सार्वजनिक रूप से अपमान झेलना पड़ा.

पत्र में नीरज कुमार ने दुष्कर्म के मामले में आरोपित राजद के विधायक राजवल्लभ यादव और सजायाफ्ता पूर्व सांसद शहाबुद्दीन पर भी निशाना साधा है. उन्होंने पूछ है कि इनके अलावा और कौन असामाजिक लोग हैं और उनको पार्टी से बाहर कब किया जायेगा ? नीरज लिखते हैं- ‘तेजस्वी जी, आशा है कि दुष्कर्म के मामले में आरोपित विधायक राजवल्लभ यादव, कई संगीन मामलों में सजायाफ्ता पूर्व सांसद शहाबुद्दीन के बाद राजद में और कौन असामाजिक लोग हैं, उन्हें आप पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाएंगे, यही मांग आपके भाई तेजप्रताप जी की भी है. वैसे, तेजप्रताप जी इतनी जल्दी पलटी क्यों मार गये? इसका भी जवाब यहां की जनता आपसे मांग रही है. राजनीति में किसी नेता या कार्यकर्ता को ही एमएलसी, एमएलए, सांसद बनाया जाता है. वह बाहर का व्यक्ति नहीं होता. राजद के प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे तो राजनीति में वरिष्ठ हैं. आपके भाई द्वारा उन्हें सार्वजनिक तौर पर अपमान करना राज्य की जनता को भी पसंद नहीं आया है.’

विदित हो कि कुछ दिनों पहले ही तेजप्रताप यादव ने बयान दिया था कि राजद में कुछ असामाजिक तत्व हैं, जो उनकी बात नहीं सुनते. साथ ही तेजप्रताप यादव ने रामचंद्र पूर्वे पर निशाना साधा था. हालांकि, कि सोमवार को लालू यादव के 71वें जन्मदिन पर तेजप्रताप ने कहा था कि पार्टी में सब ठीक है और कोई मतभेद नहीं है. तेज प्रताप ने कहा था कि रामचंद्र पूर्वे हमारे चाचा हैं. साथ ही तेजस्वी यादव ने भी कहा था कि मुझे मां-बाबूजी के साथ ही बड़े भाई का भी बहुत आशीर्वाद हमेशा मिलता है.

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *