RJD कोर्ट को जातिवादी साबित करना चाहता है : सुशील मोदी

उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने आरोप लगाया है कि राजद न्यायपालिका को हास्यास्पद या जातिवादी साबित करना चाहता है। भ्रष्टाचार के दो मामलों में सजायाफ्ता लालू प्रसाद के लिए फोन पर पैरवी की गई। उन्होंने खुद पेशी के समय विशेष न्यायाधीश से कम सजा देने की अपील की और रिहा होने पर दही-चूड़ा की दावत देने की पेशकश कर अदालत का मजाक उड़ाया।

 

ट्वीट के माध्यम से उप मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया कि लालू परिवार ने होटल के बदले जमीन लिखवाने से लेकर मॉल की मिट्टी बेचने तक एक हजार करोड़ का घोटाला कर बेनामी सम्पत्ति बनाई। जब इस मामले में जांच एजेंसियों की कार्रवाई के बाद नीतीश कुमार ने अपना रास्ता अलग कर लिया, तब शरद यादव ने घोटालों पर चुप्पी साध कर आरोपियों का साथ दिया। वे अब मामूली बातों पर धरना देकर खुद को क्रांतिकारी दिखाना चाहते हैं।

 

 

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा है कि एनडीए सरकार ने बेनामी सम्पत्ति के खिलाफ एक नवंबर 2016 से कुर्की-जब्ती का कड़ा कानून लागू किया। इससे मात्र एक साल में 3500 करोड़ रुपये की अवैध सम्पत्ति जब्त की गई। केंद्रीय प्रत्यक्षकर बोर्ड ने 900 से अधिक सम्पत्ति के खिलाफ ठोस कार्रवाई कर भ्रष्टाचार के विरुद्ध जीरो टोलरेंस का संदेश दिया। जिनकी बेनामी सम्पत्ति जब्त हुई, वे एनडीए का विरोध करने के बहाने ढूंढ़ते हैं।

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *