TMBU में शैक्षणिक और शोध में होगा सुधार, नैक से एक ग्रेड के लिए होगा प्रयास

तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय गुरुवार को 59वें वर्ष में प्रवेश कर गया। इस अवसर पर सिनेट हॉल में कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कुलपति प्रो. नलिनीकांत झा ने विश्वविद्यालय में यूजीसी के मानकों के अनुरूप पढ़ाई व शोध को आगे बढ़ाने की बात कही। 12 जुलाई 1960 में तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय की स्थापना हुई थी।

इस मौके पर कुलपति प्रो. एनके झा सहित अन्य वक्ताओं ने विश्वविद्याय के गौरवशाली इतिहास को याद किया। साथ ही परीक्षा व्यवस्था में सुधार और सत्र को नियमित करने की बात कही। कुलपति ने कहा कि कमियों को दूर कर विश्वविद्यालय को नैक से ए ग्रेड की मान्यता के लिए प्रयास किया जाएगा। नैक के मानकों को पूरा करने के लिए कार्ययोजना पर काम किया जायेगा। उन्होंने सामाजिक विज्ञान में शोध पत्र प्रकाशन, सेमिनार व कॉन्फ्रेंस कराने के लिए विभागों को कहा। इसके लिए फंड की व्यवस्था यूजीसी/आईसीसीएसआर से कराई जायेगी। जरूरत पड़ी तो विश्वविद्यालय से भी फंड दी जायेगी।

छात्र व शिक्षक अपनी कमी जानकर करें सुधार: वर्मा

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि मुंगेर विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. रंजीत कुमार वर्मा ने कहा कि 58 वर्ष पूरा करना किसी भी विश्वविद्यालय के लिए बड़ी बात है। इस मौके को सेलिब्रेट करना तो ठीक है, लेकिन बीते हुए समय का अवलोकन भी होना चाहिए। इस पर खुली चर्चा होनी चाहिए। छात्रों व शिक्षकों को अपनी कमियों को जानना चाहिए, ताकि उसमें सुधार हो सके। कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि व नि:शक्तता के राज्य आयुक्त डॉ. शिवाजी कुमार ने इस दौरान दिव्यांग को लेकर कानूनी प्रावधानों की जानकारी दी। उन्होंने विश्विद्यालय में दिव्यांग फ्रेंडली व्यवस्था और सुविधा उपलब्ध कराने का अनुरोध किया। वहीं प्रतिकुलपति प्रो. रामयतन प्रसाद ने संकल्प के साथ अपना भाषण शुरू किया। उन्होंने कहा कि कोई घटना न घटे, इसके लिए मैं संकल्प ले रहा हूं। विश्वविद्यालय ने काफी प्रगति की है। इसे आगे बढ़ाने की आवश्यकता है। उन्होंने परीक्षा और सत्र में सुधार पर फोकस करने की बात कही।

तिलकामांझी की प्रतिमा पर हुआ माल्यार्पण

कार्यक्रम की शुरुआत तिलकामांझी की प्रतिमा पर माल्यार्पण के साथ हुआ। इसके बाद परिसर में पौधरोपण किया गया। इसके बाद हॉल में अतिथियों व पदाधिकारियों को बुके व अंग वस्त्र देकर सम्मानित किया गया। बेहतर सेवा के लिए कर्मियों को मोमेंटो व अंगवस्त्र देकर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर संगीत विभाग के छात्रों ने स्वागत गान प्रस्तुत किया। इसमें जयश्री, नीतीश रंजन, राजश्री, माधुरिका, श्रीश, सुंदरात्मा व लता ने भाग लिया, जबकि तबले पर ऋर्षि मिश्रा संगत कर रहे थे।

कार्यक्रम का संचालन पुरनेंदु शेखर व धन्यवाद ज्ञापन रजिस्ट्रार अशोक कुमार झा ने किया। इस अवसर पर डीएसडब्ल्यू डॉ. योगेंद्र, प्रॉक्टर प्रो. विलक्षण रविदास, मारवाड़ी कॉलेज के प्राचार्य प्रो. गुरुदेव पोद्दार, एसएम कॉलेज की प्राचार्य डॉ. अर्चना ठाकुर, डीन मानविकी ईरा घोषाल, डीन विज्ञान प्रो. लोकेश चंद, वित्त अधिकारी हरिकेष नारायण सिंह, छात्रसंघ के अध्यक्ष जयप्रीत मिश्र, शिक्षकेत्तर कर्मचारी संघ के नेता रंजीत व कर्मचारी संघ के नेता शंकर तांती सहित अन्य वक्ता मौजूद थे।

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *