दिल्ली सरकार में मंत्री आतिशी ने मंगलवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में आरोप लगाया कि उन्हें और आप के कई नेताओं को आने वाले दिनों में गिरफ्तार किया जा सकता है।आतिशी के इन दावों पर बीजेपी ने भी पलटवार किया।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को कल (सोमवार) को कोर्ट ने 15 अप्रैल तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया. इससे पहले सोमवार को ईडी ने अरविंद केजरीवाल कोर्ट में पेश किया. जहां उन्होंने दिल्ली सरकार में मंत्री आतिशी और सौरभ भारद्वाज का नाम लिया. केजरीवाल ने कोर्ट में कहा कि विजय नायर मुझे नहीं बल्कि आतिशी और सौरभ भारद्वाज को रिपोर्ट करता था. इसके बाद मंगलवार को आतिशी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इसमें उन्होंने बीजेपी पर कई आरोप लगाए।

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान आतिशी ने आरोप लगाया कि, ‘मेरे बहुत करीबी व्यक्ति के माध्यम से मुझे भाजपा ज्वॉइन करने के लिए अप्रोच किया गया. मुझे ये कहा गया कि या तो मैं भाजपा में शामिल हो जाऊं और अपना राजनीतिक करियर बचा लूं. अगर मैं ऐसा नहीं करती तो आने वाले एक महीने में गिरफ्तार कर लिया जाएगा.’ आतिशी ने आगे कहा कि अगले कुछ दिनों में आप के कुछ और नेताओं को भी गिरफ्तार किया जा सकता है।

आतिशी ने कहा कि अरविंद केजरीवाल, मनीष सिसौदिया, संजय सिंह, सतेंद्र जैन के जेल में होने के बावजूद भी आम आदमी पार्टी एक जुटता के साथ, आम आदमी पार्टी मजबूती के साथ जमीन पर लड़ रही है. उन्होंने कहा कि रामलीला मैदान में जो रैली हुई उसमें भारी संख्या में लोग आए, भारी संख्या में जनसैलाब आया उससे उनको ये समझ आ गया है कि आम आदमी पार्टी की नेक्स्ट लाइन ऑफ लीडरशिप को भी गिरफ्तार करना पड़ेगा।

आतिशी के आरोपों पर बीजेपी का पलटवार

आतिशी के आरोपों पर बीजेपी ने भी पलटवार किया.  बीजेपी नेता आरपी सिंह ने कहा कि, ऐसे निराधार आरोप तो मैं भी लगा सकता हूं. मैं भी कह सकता हूं कि सौरभ भारद्वार का मुझे फोन आया था, उन्होंने मुझसे कहा कि कृपा करके आप केजरीवाल से मेरी जान बचाइए. ये हमें जेल में डलवाना चाहते हैं. ये अब हमारा नाम ले रहे हैं. सीएम बनने का जो मौका मेरा पास है मेरी जगह वह सुनाता केजरीवाल को मुख्यमंत्री बनाना चाहते हैं.” आरपी सिंह ने आगे कहा कि, असल में इनके अंदर की खींचतान है जो बार-बार अलग-अलग ढंग से प्रकट हो रही है।

उन्होंने कहा कि जिस-जिस का नाम पूरे मामले में है उनके खिलाफ कार्रवाई होगी. दुर्गेश पाठक का नाम पेज नंबर 25 पर रिमांड नोट पर है. उनसे जांच की जाएगी. जांच के अंदर ठीक होगा तो उनके खिलाफ कार्रवाई नहीं होगी. अगर ठीक नहीं होगा तो उनके खिलाफ कार्रवाई होगी. आरपी सिंह ने कहा कि आज ये स्पष्ट हो गया कि मुख्यमंत्री पद की लड़ाई आम आदमी पार्टी में शुरू हो गई. आतिशी और सौरभ भारद्वाज एक तरफ हैं तो अरविंद केजरीवाल और सुनीता केजरीवाल एक तरह हैं।