अगर आप भी प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के लाभार्थी हैं तो ये खबर आपके बहुत काम की है।क्योंकि जिन लोगों ने फर्जीवाड़ा कर पीएम किसान निधि का लाभ पाया है।

मुख्य तथ्य

  • अभी तक 15  किस्त हो चुकी हैं पीएम निधि की जारी
  • लाखों किसान फर्जी तरीके से पा रहे हैं योजना का लाभ
  • ईकेवाइसी व भूलेख सत्यापन के जरिये पकड़ा गया कारनामा

अगर आप भी प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के लाभार्थी हैं तो ये खबर आपके बहुत काम की है. क्योंकि जिन लोगों ने फर्जीवाड़ा कर पीएम किसान निधि का लाभ पाया है. उन्हें अब योजना के तहत मिले पैसे लौटाने पड़ सकते हैं. आपको बता दें कि अभी तक पीएम किसान निधि की 15वीं किस्त जारी हो चुकी हैं. साथ ही आने वाले दिनों में 16वीं किस्त भी किसानों के खाते में क्रेडिट कर दी जाएगी.. हालांकि अभी कितने किसानों की पहचान की गई है. ऐसी कोई संख्या नहीं बताई गई है. सूत्रों का दावा है कि विभाग ने ऐसे किसानों से वसूली शुरू कर दी है।

ऐसे पकड़ा गया फर्जीवाड़ा
आपको बता दें कि देश में लाखों ऐसे किसान हैं, जो वास्तव में पीएम निधि के लिए पात्र ही नहीं है. ऐसे किसानों का डाटा तैयार किया गया है. इन किसानों की पहचान करने में पैन और आधार लिंक होने से पता चला है. साथ ही भूलेख सत्यापन और ईकेवाइसी की वजह से अकेले यूपी में लाखों किसानों की पहचान की गई है. इनमें ऐसे किसान भी शामिल हैं जो टैक्सपेयर्स हैं. साथ ही कुछ ऐसे किसान हैं जो जमीन बेच चुके हैं. लेकिन स्कीम का लाभ अभी तक ले रहे हैं।

फर्जी किसानों को लौटानी होंगे पैसे
आपको बता दें कि फर्जी किसानों को चिंहित किया जा रहा है. साथ ही इनका एक डाटाबैंक भी तैयार किया जा रहा है. बताया जा रहा है कि अब तक लाखों-करोड़ों रुपये की वसूली की जा चुकी है. साथ ही ऐसे खातों में योजना का पैसा नहीं डाला जा रहा है जो संदिग्ध हैं, या फिर जिन खातों की केवाईसी पूरी नहीं हुई है. आपको बता दें कि अभी तक 15 किस्त पीएम निधि की जारी हो चुकी है. साथ ही अंतरिम बजट के बाद 16वीं किस्त की भी फाइल तैयार हो चुकी है. बताया जा रहा है कि फरवरी के लास्ट में पात्र किसानों के खाते में 16वीं किस्त भेज दी जाएगी।