बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इंडिया गठबंधन पर जोरदार हमला बोला। उन्होंने कहा कि कोई कुछ काम नहीं कर रहा था, इसलिए हमने छोड़ दिया। यह भी तय नहीं कर रहा था कि कितनी सीटों पर चुनाव लड़ना है। अब वह लोग जानें। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि हमने दूसरा नाम बोला था, लेकिन इन लोगों ने “INDIA” नाम रख लिया।

राहुल गांधी के उस बयान पर जिसमें उन्होंने कहा था कि “जातिगत गणना हमारे कहने पर नीतीश कुमार ने कराई थी”। इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि बिल्कुल गलत बात है। जातीय गणना हमने अपने दम पर करवाई है। राहुल गांधी फालतू की बात कर रहे। वह क्रेडिट ले रहा है, हमने जातिगत गणना कराया। मुख्यमंत्री ने लालू परिवार पर भी निशाना साधते हुए कहा कि “2005 से पहले बिहार की हालत क्या थी, कोई निकलता नहीं था घरों से। सड़कों की हालत क्या थी कहीं कोई पुल पुलिया नहीं बनता था। तेजस्वी यादव का नाम लिए बिना कहा अभी वह बच्चा है, हम ही आए थे उसको क्या पता है!

वहीं, नीतीश कुमार ने कहा कि टीचर भर्ती को लेकर जो क्रेडिट लिया जा रहा है, वह बिल्कुल गलत है। वह मेरा विजिन था। उन्होंने स्पष्ट तौर पर कहा कि बिहार के विकास के लिए हम लगातार काम कर रहे हैं और इसी विकास को आप लोग दिखाइए। बता दें कि नीतीश कुमार ने ‘महागठबंधन’ और विपक्षी दलों के ‘इंडिया’ गठबंधन से नाता तोड़ने बाद भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के साथ मिलकर राज्य में नई सरकार बनाई, जिससे लगभग डेढ़ साल पहले उन्होंने नाता तोड़ लिया था।

वहीं, जदयू के अध्यक्ष नीतीश कुमार ने एक बार फिर से पाला बदलने के बाद बीते रविवार को रिकॉर्ड नौवीं बार बिहार के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। बिहार के राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर ने राजभवन में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा की उपस्थिति में कुमार को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई।