12 फरवरी को राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की सरकार विधानसभा में बहुमत साबित करेगी. उससे पहले भाजपा और जदयू अपने विधायकों को एकजुट रखने की कोशिश में जुटे हैं. जदयू के तमाम विधायकों को एकजुट रखने के लिए डिनर डिप्लोमेसी का सहारा लिया गया है. आज मंत्री श्रवण कुमार के सरकारी आवास पर भोज का आयोजन किया गया है. जहां सीएम नीतीश कुमार भी पहुंचे, लेकिन कुछ देर बाद वो निकल गए. सबसे बड़ी बात ये कि कई विधायक भोज में शामिल नहीं हुए हैं।

जेडीयू पार्टी में 2 दिन भोज का आयोजनः जदयू के पास कुल 45 विधायक हैं और तमाम विधायकों को एकजुट रखना पार्टी के लिए चुनौती है. 12 फरवरी से पहले 2 दिन पार्टी नेताओं के द्वारा भोज का आयोजन किया गया है, पहला भोज बिहार सरकार के मंत्री श्रवण कुमार के आवास पर आयोजित है. श्रवण कुमार के आवास पर विधायकों के पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गया है, हालांकि 8 विधायक अभी भी नहीं पहुंचे हैं।

कौन-कौन विधायक भोज में नहीं पहुंचे?: बीमा भारती, अमन हजारी, गुंजेश्वर साह, दिलीप राय, सुदर्शन, शालिनी मिश्रा और डॉक्टर संजीव कुमार भी बैठक में नहीं पहुंचे हैं. हालांकि जेडीयू नेताओं का दावा है कि हमारे सभी 45 विधायक एकजुट हैं. फ्लोर टेस्ट में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के समर्थन में 128 विधायकों का समर्थन मिलेगा. कुछ विपक्षी विधायकों का भी हमें समर्थन मिल सकता है।

श्रवण कुमार के आवास पर पहुंचे विधायकः बिहार सरकार के मंत्री श्रवण कुमार के आवास पर विधायकों का जमावड़ा लगना शुरू हो गया है, विधान पार्षद और विधायक बारी-बारी से पहुंच रहे हैं और उनकी गिनती भी हो रही है. भोज में शामिल होने वाले विधायक आत्मविश्वास से लबरेज हैं और उन्हें बहुमत हासिल होने का भरोसा भी है. जदयू विधायक सिद्धार्थ पटेल ने कहा है कि मुझे किसी ने फोन नहीं किया था और जदयू के तमाम विधायक एकजुट हैं।

“हम आसानी से बहुमत का आंकड़ा हासिल कर लेंगे. जदयू के तमाम विधायक एकजुट हैं. कहीं कोई दिक्कत नहीं है”- सिद्धार्थ पटेल, जदयू विधायक

आरजेडी पर अफवाह फैलाने का आरोपः वहीं विधायक राजकुमार सिंह ने कहा है कि जनता दल यूनाइटेड पूरी तरह एकजुट है और तमाम विधायक पार्टी के साथ हैं. हमारे नेता का जो आदेश होगा उसका हम लोग पालन करेंगे. विधानसभा में आसानी से हम लोग बहुमत हासिल कर लेंगे. राष्ट्रीय जनता दल के लोग अफवाह फैलाने का काम कर रहे हैं।