बिहार के करीब 95 हजार गेस्ट टीचर की नौकरी जाने वाली है। एसीएस केके पाठक के निर्देश पर शिक्षा विभाग ने राज्य के सभी अतिथि शिक्षकों को हटाने का समय निर्धारित कर दिया है। इसको लेकर बिहार माध्यमिक शिक्षा निदेशक कन्हैया प्रसाद श्रीवास्तव ने पत्र जारी कर सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियों को दिया है।

दरअसल, बिहार में फिलहाल कक्षा 9वीं और 10वीं के लिए 37847 और कक्षा 11वीं और 12वीं के लिए के छात्र-छात्राओं को पढ़ाने के लिए 56891 अतिथि शिक्षकों की सेवा सरकार द्वारा ली जा रही थी। बिहार में शिक्षक बहाली की प्रक्रिया संपन्न होने तक शिक्षा विभाग ने राज्यभर में कुल 94738 गेस्ट टीचर को मानदेय के आधार पर नियुक्त किया था।

अब जब राज्य में बड़ी संख्या में शिक्षकों की बहाली हो गई है और अभी और भी शिक्षक बहाल किए जाने हैं तो शिक्षा विभाग ने राज्य से विभिन्न स्कूलों में तैनात अतिथि शिक्षकों को हटाने का फैसला लिया है। शिक्षा विभाग के एसीएस केके पाठक के निर्देश पर माध्यमिक शिक्षा निदेशक कन्हैया प्रसाद ने पत्र जारी कर सभी जिलों के डीईओ को गेस्ट टीचर को हटाने का निर्देश जारी कर दिया है।

बिहार में बड़ी संख्या में शिक्षकों की बहाली होने का हवाला देते हुए विभाग ने कहा है कि 31 मार्च 2024 के बाद किसी भी हाल में अतिथि शिक्षकों से काम नहीं लिया जाए। विभाग ने सभी जिला शिक्षा पदाधिकारी को आदेश दिया है कि 1 अप्रैल 2024 से किसी भी अतिथि शिक्षक की सेवा नहीं लें और 3 अप्रैल तक सभी अतिथि शिक्षकों को हटाने की सूचना दें। शिक्षा विभाग के इस फैसले से करीब एक लाख अतिथि शिक्षकों में हड़कंप मच गया है।