आईजी ऑफिस से लापता हो गई ASI मैडम व सिपाही, दोनों ने भागकर रचाई शादी, निलंबित

National

आईजी ऑफिस में तैनात महिला एएसआई और सिपाही साथ में लापता हो गए हैं। दोनों ड्यूटी पर जाने की बात कहकर घर से निकले थे। लेकिन न तो दफ्तर पहुंचे और न ही वापस घर।

महिला एएसआई के परिजनों ने कंपू थाने में गुमशुदगी भी दर्ज कराई है। दोनों के मोबाइल भी बंद आ रहे हैं। एएसआई के परिजनों ने आईजी अरविंद सक्सेना से मुलाकात की और बताया कि उनकी बेटी और सिपाही के बीच प्रेम प्रसंग था। दोनों शादी करना चाहते थे। लेकिन जाति की वजह से वह राजी नहीं हुए। बिना बताए ड्यूटी से गैर हाजिर रहने पर आईजी ने दोनों को निलंबित कर दिया है। अब पुलिस अधिकारियों को खबर मिली है कि दोनों ने आर्य समाज से शादी कर ली है।

आईजी का कहना है कि अगर शादी करना थी तो उनके समक्ष आकर पेश हो सकते थे, उन्हें जानकारी दे सकते थे, लेकिन ड्यूटी से गैरहाजिर नहीं रहना था। ग्वालियर जोन के आईजी आफिस में पांच साल से महिला एएसआई निशा जैन और सिपाही अखंड प्रताप सिंह यादव पदस्थ हैं। मतदान के दिन साथ लगी थी ड्यूटी 7 मई को मतदान में इनकी ड्यूटी लगी थी। मतदान के दिन दोनों ने साथ में पेट्रोलिंग की। माना जा रहा है कि उसी दिन दोनों ने साथ भाग जाने का प्लान बना लिया। मतदान संपन्न होने के बाद दोनों घर पहुंचे।

अगले दिन फिर ड्यूटी के लिए निकले। लेकिन लापता हो गए। तब से ही दोनों का फोन भी बंद है। आईजी कार्यालय से भी लगातार दोनों से संपर्क करने का प्रयास किया जा रहा था, लेकिन संपर्क नहीं हो सका। आईजी अरविंद सक्सेना ने दोनों को निलंबित कर दिया। महिला एएसआई के परजिन आईजी ऑफिस पहुंचे। यहां आईजी अरविंद सक्सेना से मिलकर उन्होंने बेटी को ढूंढने की गुहार लगाई।

महिला एएसआई कंपू इलाके में रहती है, इसके चलते स्वजनों ने कंपू थाने में गुमशुदगी भी दर्ज कराई है। महिला एएसआई के परिजनों ने आईजी को बताया कि निशा और अखंड दोनों शादी करना चाहते थे। परिवारजन अलग जाति होने की वजह से शादी के लिए तैयार नहीं थे। इसलिए साथ चले गए। अब पुलिस तक सूचना पहुंची है कि दोनों ने शादी कर ली है। दोनों के दिल्ली में होने की खबर भी पुलिस अधिकारियों को मिली है।


Discover more from The Voice Of Bihar

Subscribe to get the latest posts to your email.

Rajkumar Raju

5 years of news editing experience in VOB.

Adblock Detected!

Our website is made possible by displaying online advertisements to our visitors. Please consider supporting us by whitelisting our website.