भगवान राम की भूमि यानी अयोध्या धाम में एक अनोखा बैंक है जहां पैसे जमा करने कोई नहीं आता लेकिन इस बैंक में 35,000 खाताधारक हैं। इस बैंक में केवल मन की शांति, विश्वास और आध्यात्मिकता ही मिलती है यहां पैसों का लेन दिन नहीं होता है!  नवनिर्मित राम मंदिर देखने आने वाले भक्तों और पर्यटकों का ध्यान खींचने वाला यह बैंक एक इंटरनेशनल बैंक है, इसका नाम “अंतर्राष्ट्रीय श्री सीताराम बैंक” है। यहां कई पुस्तिकाएं हैं जिनके सभी पृष्ठों पर “सीताराम” लिखा हुआ है। यह आध्यात्मिक बैंक नवंबर 1970 में श्री रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के प्रमुख महंत नृत्य गोपाल दास द्वारा स्थापित किया गया था। इस बैंक के भारत और अमेरिका, ब्रिटेन, कनाडा, नेपाल, फिजी, संयुक्त अरब अमीरात सहित विदेशों में 35,000 से अधिक खाताधारक हैं।

20,000 करोड़ ‘सीताराम’ पुस्तिकाओं का संग्रह

बैंक के पास भगवान राम के भक्तों से 20,000 करोड़ ‘सीताराम’ पुस्तिकाओं का संग्रह है। बैंक के प्रबंधक पुनित राम दास महाराज के अनुसार, पिछले महीने भव्य राम मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा समारोह के बाद बैंक में दैनिक आगंतुकों की संख्या में वृद्धि हुई है। “बैंक भक्तों को मुफ्त पुस्तिकाएं और लाल पेन प्रदान करता है और प्रत्येक खाते का हिसाब रखता है। बैंक में खाता खोलने के लिए कम से कम 5 लाख बार ‘सीताराम’ लिखना पड़ता है और फिर एक पासबुक जारी की जाती है।

पुनीत राम दास ने पीटीआई-भाषा को बताया, “पूरे भारत और यहां तक ​​कि विदेशों में भी बैंक की 136 शाखाएं हैं। खाताधारक हमें डाक से पुस्तिकाएं भी भेजते हैं और हम यहां बही-खाता रखते हैं। उन्होंने कहा कि आगंतुक सीताराम लिखने और इसे बैंक में जमा करने के लाभों पर भी सवाल उठाते हैं।

“मैं उनसे कहता हूं कि जिस तरह हम आंतरिक शांति, आस्था और सदाचार के लिए देवी-देवताओं के मंदिरों में जाते हैं, उसी तरह ‘सीताराम’ लिखकर उसे बैंक में जमा करना भी प्रार्थना का एक रूप है। क्या हम नहीं कहते हैं कि भगवान के पास सबके अच्छे-बुरे कर्मों का अपना लेखा-जोखा है? यह कुछ ऐसी ही बात है। उन्होंने कहा, “भक्तों को भगवान राम का नाम लिखने, जपने और स्मरण करने में सांत्वना और गहन आध्यात्मिक समृद्धि मिलती है।” पुनीत राम दास ने बताया कि ऐसा माना जाता है कि 84 लाख बार नाम लिखने से व्यक्ति को ‘मोक्ष’ की प्राप्ति होती है।

लोगों ने बताए अनुभव

बिहार के गया के जीतू नागर, जो 14 वर्षों से बैंक का दौरा कर रहे हैं, ने कहा कि यह उनकी प्रार्थना का एकमात्र रूप है। किसी मंदिर में प्रार्थना करने के बजाय, मैं इसका अभ्यास करता हूं और जब भी मैं उदास महसूस करता हूं या परेशानी में होता हूं तो यह हमेशा मेरे लिए काम करता है। मैं इसे पूरे साल भर लिखता हूं और साल में एक बार बैंक में जमा करता हूं। आपके पास एक विकल्प है कि आप अपनी पुस्तिका डाक से भी भेज सकते हैं, लेकिन मैं खुद वहां जाना पसंद करूंगा।” उन्होंने कहा कि वह पहले ही 1.37 करोड़ नाम की बुकलेट जमा कर चुके हैं।

उत्तर प्रदेश के बरेली के एक अन्य खाताधारक उमान दास ने कहा, उन्होंने 25 लाख बार ‘सीताराम’ लिखा है। उन्होंने कहा, “जब मैंने अपने पड़ोसी को बैंक के बारे में बताया, तो उसने सोचा कि मैं पागल हो गया हूं, लेकिन मेरा दृढ़ विश्वास है। जब भी मैं लिखता हूं, मैं हल्का महसूस करता हूं और मुझे लगता है कि मेरी प्रार्थनाएं सुनी जा रही हैं।”