आज से बिहार विधानसभा का बजट सत्र आज शुरू हो रहा है. आज ही विधानसभा अध्यक्ष अवध बिहारी चौधरी के साथ-साथ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के भी राजनीतिक भाग्य का भी फैसला होना है. इस वजह से बिहार का राजनीतिक पारा चढ़ा हुआ है. सभी दल अपने विधायकों को लेकर अलर्ट है. महागठबंधन के विधायकों को पिछले दो दिनों से तेजस्वी यादव के सरकारी आवास पर रखा जा रहा है. वहीं बीजेपी के विधायक 2 दिन बोधगया में कार्यशाला में भाग लेकर देर रात पटना लौट आए हैं. जेडीयू के विधायकों को भी एक निजी होटल में रखा गया है. उधर, कांग्रेस के विधायक भी हैदराबाद से पटना लौट चुके हैं और तेजस्वी यादव के सरकारी बंगले पर ही हैं. सभी विपक्षी विधायक वहीं से सीधे विधानसभा पहुंचेंगे।

अवध बिहारी चौधरी के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव: 11 बजे बिहार विधानसभा की कार्यवाही शुरू होगी. विधानसभा अध्यक्ष अवध बिहारी चौधरी का संबोधन होगा. संबोधन के बाद कुछ देर के लिए कार्यवाही को रोक दी जाएगी. उसके बाद सेंट्रल हॉल में विधानसभा और विधान परिषद के सदस्य पहुंचेंगे. जहां 11:30 बजे विधानसभा के विस्तारित भवन के सेंट्रल हॉल में राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर का विधानसभा के सदस्य और विधान परिषद के सदस्यों को संबोधित करेंगे।

राज्यपाल का अभिभाषण: राज्यपाल के संबोधन के बाद दोनों सदनों के सदस्य अपने-अपने सदन में चले जाएंगे. उसके बाद विधानसभा में अध्यक्ष अवध बिहारी चौधरी के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा शुरू होगी. विधानसभा सचिव के तरफ से अविश्वास प्रस्ताव के बारे में सदन को जानकारी दी जाएगी. 38 विधायक इसके समर्थन में खड़ा होकर मंजूरी दिलाएंगे।

डिप्टी स्पीकर संभालेंगे आसन: उसके बाद डिप्टी स्पीकर महेश्वर हजारी विधानसभा अध्यक्ष की कुर्सी पर बैठेंगे और विधानसभा अध्यक्ष के अविश्वास प्रस्ताव को लेकर मतदान होगा. अविश्वास प्रस्ताव पास हो गया तो फिर नए विधानसभा अध्यक्ष का चयन होगा. इसके बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की ओर से अपनी सरकार के लिए विश्वास प्रस्ताव सदन पटल पर रखा जाएगा. 12 फरवरी को ही आर्थिक सर्वेक्षण की रिपोर्ट सदन में रखी जाएगी. इसके बाद शोक प्रस्ताव होगा, फिर सदन की कार्यवाही 13 फरवरी 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दी जाएगी।

नीतीश कुमार के फ्लोर टेस्ट से पहले गहमा-गहमी: बजट सत्र से एक दिन ठीक पहले राजधानी पटना में गहमा-गहमी बनी रही. जेडीयू विधानमंडल दल की बैठक में जेडीयू के तीन विधायक नहीं पहुंचे, यह जानकारी खुद मंत्री विजय कुमार चौधरी ने दी थी लेकिन उससे अधिक विधायक नहीं आए. कमोबेश हर दल की यही स्थिति है लेकिन सभी दल का दावा है कि विधानसभा में उनके विधायक मौजूद रहेंगे. ऐसे में सब की नजर आज विधानसभा में होने वाले फ्लोर टेस्ट और उससे पहले विधानसभा अध्यक्ष के अविश्वास प्रस्ताव पर ही लगी है।