नीतीश सरकार के फ्लोर टेस्ट को लेकर जारी अनिश्चितता की राजनीति के बीच बिहार बीजेपी भगवान के शरण में पहुंची है. डिप्टी सीएम विजय कुमार सिन्हा समेत पार्टी के कई नेता रविवार को विश्व प्रसिद्ध विष्णुपद मंदिर और मां मंगला गौरी मंदिर में पूजा-अर्चना की. इस दौरान उन्होंने दावा किया कि हमारे पास बहुमत है, 12 फरवरी को फ्लोर टेस्ट में कोई परेशानी नहीं आएगी।

बिहार को गौरवान्वित करने के लिए मांगा आशीर्वाद: विजय कुमार सिन्हा ने पहले भगवान विष्णु के चरण चिह्न के दर्शन कर पूजा-अर्चना की. उसके बाद मां मंगला गौरी मंदिर में भी पूजा की. उन्होंने कहा कि बिहार के हित में भगवान से आशीर्वाद मांगा है।

“बिहार के अंदर बिहार की जनता के लिए सकारात्मक ऊर्जा का संचार हो और गौरवशाली ज्ञान विज्ञान की धरती फिर से गौरवान्वित हो, अराजकता-गुंडाराज में बिहार को तब्दील किया गया, हमने यहां के ठहरे विरासत सांस्कृतिक विरासत को सुदृढ़ करने की कामना की है. हमारी सरकार में बहाली की प्रक्रिया शुरू हो गई है. चोर दरवाजे से सत्ता में आने वाला राजद वसूली का काम कर रहा थी, जिसे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बाहर कर दिया.”- विजय कुमार सिन्हा, उप-मुख्यमंत्री, बिहार

तेजस्वी पर भड़के विजय सिन्हा: वहीं, डिप्टी सीएम विजय सिन्हा ने तेजस्वी आवास में फ्लोर टेस्ट से पहले आरजेडी विधायकों को रखे जाने के सवाल पर तंज कसा है. उन्होंने कहा कि यह जमींदारी और वंशवादी परिवार की मानसिकता का परिचायक है. विधायकों को बंधुआ मजदूर की तरह वहां बांध कर रखते हैं, जो क्रूर मजाक है. डिप्टी सीएम ने इसे वंशवादियों का चरित्र बताया. साथ ही कहा कि यह बिहार के हित में नहीं है।

बीजेपी के प्रशिक्षण शिविर का दूसरा दिन: आज बिहार बीजेपी के विधायकों के लिए आयोजित प्रशिक्षण शिविर का दूसरा दिन है. पहले दिन 78 में से 5 विधायक कार्यशाल से गायब रहे. जिसके बाद कई तरह के सवाल उठने लगे हैं. शिविर में शामिल नहीं होने वालों में रश्मि वर्मा, विनय बिहारी, सौरभ तिवारी और पवन यादव हैं. हालांकि पार्टी का दावा है कि कोई विधायक गायब नहीं हैं।