लोकसभा चुनाव से पहले बिहार में मंगलवार को बड़ा खेल हुआ. कांग्रेस के दो और आरजेडी के एक विधायक ने बीजेपी का दामन थाम लिया. इस सियासी घटनाक्रम के बीच कांग्रेस ने पाला बदलनेवाले दोनों विधायकों को पार्टी से निकाल दिया और अब कांग्रेस दोनों विधायकों की विधानसभा की सदस्यता खत्म कराने की तैयारी कर रही है. इसको लेकर पार्टी विधानसभा स्पीकर को चिट्ठी लिखेगी।

‘दलबदल कानून के तहत हो कार्रवाई’: विधानसभा की कार्यवाही में भाग लेने से पहले कांग्रेस विधायक दल के नेता शकील अहमद ने बताया कि दोनों विधायकों- मुरारी गौतम और सिद्धार्थ को पार्टी से निकाल दिया गया है और अब दोनों की सदस्यता रद्द करने के लिए स्पीकर को पत्र लिखने जा रहे हैं. शकील अहमद ने कहा कि ”दलबदल कानून के तहत जो नियम लागू होता है, उस नियम के तहत ही वे विधानसभा अध्यक्ष को पत्र लिखने जा रहे हैं.”

‘गद्दार तो गद्दारी करेंगे ही’: कांग्रेस के कई और विधायकों के बीजेपी में शामिल होने के सवाल पर शकील अहमद ने तंज कसा और कहा कि गद्दारों का क्या कहना?. जो गद्दारी करना चाहते हैं, वो करें. शकील अहमद ने इसको लेकर बीजेपी पर भी निशाना साधा और कहा कि आज जो बीजेपी कर रही है वो कहीं से उचित नहीं है. आनेवाले दिनों में यही बात बीजेपी के साथ भी हो सकती है. इसके साथ ही उन्होंने ये भी जोड़ा कि अब कोई भी विधायक इधर- उधर जाने को नहीं है।

महागठबंधन को झटके पर झटकेः बता दें कि 27 फरवरी को बिहार की सियासत में महागठबंधन को उस समय बड़ा झटका लगा जब कांग्रेस के दो विधायक मुरारी गौतम और सिद्धार्थ कुमार के साथ-साथ आरजेडी विधायक संगीता देवी बीजेपी में शामिल हो गयीं. इससे पहले 12 फरवरी को विधानसभा में विश्वासमत के दौरान भी महागठबंधन के तीन विधायकों ने पाला बदलकर नीतीश सरकार को समर्थन दिया था।