बिहार की 149 आईटीआई को विकसित करेगी सरकार और टाटा टेक: जीवेश कुमार

राज्य के सभी 149 सरकारी औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों को सेंटर आफ एक्सीलेंस के रूप में विकसित करने को लेकर बिहार सरकार और टाटा टेक के बीच एमओयू पर हस्ताक्षर होगा. श्रम संसाधन मंत्री जिवेश कुमार ने बताया कि इस एमओयू के तहत  इस परियोजना के तहत कुल निवेश 4,606 करोड़ रुपये का होगा.

उन्होंने बताया कि टाटा टेक की ओर से आईटीआई में 23 नए एडवांस कोर्स संचालित होंगे. वैसे पहले चरण में नए वित्तीय वर्ष में 60 आईटीआई को सेंटर आफ एक्सीलेंस के रूप में विकसित करने का लक्ष्य पूरा होगा. इसमें उद्योग क्षेत्र की जरूरतों के हिसाब से युवाओं को ट्रेनिंग की सुविधा और फिर शिक्षण की व्यवस्था होगी. दूसरे चरण में शेष आइटीआइ को इसी पैटर्न पर विकसित करने का काम पूरा होगा. मंत्री जिवेश कुमार ने बताया कि टाटा टेक्नोलाजी 149 सेंटर आफ एक्सीलेंस को सभी सुविधाओं से तैयार करेगा. इस परियोजना को लागू करने के लिए 20  उद्योग इकाई की भागीदारी होगी.

उन्होंने बताया कि अपने विनिर्माण डोमेन सबंधी अनुभव का लाभ उठाते हुए विशेष आईटीआई पाठ्यक्रम विकसित कर प्रशिक्षण कार्यक्रम भी चलाएगी. साथ ही आधुनिक उपकरण और नवीनतम सॉफ्टवेयर के साथ सहायता प्रदान कर करेगी. पहले चरण में, दिसम्बर 2022 तक कुल 60 केंद्रों को सेंटर आफ एक्सीलेंस में अपग्रेड किया जाएगा. शेष 89 केंद्रों को उन्नत बनाने का कार्य जनवरी 2023 में प्रारंभ किया जायेगा. जिसे 31 दिसम्बर 2023 तक इन्हें सेंटर आफ एक्सीलेंस में तब्दील कर दिया जाएगा.

कंपनी अपने उद्योग भागीदारों के साथ 298 प्रशिक्षण कर्मियों को भी तैनात करेगी और उन्नत उपकरणों की सुविधा प्रदान करेगी. टाटा टेक्नोलॉजीज का उद्देश्य भविष्य के उद्योग आवश्यकताओं के अनुसार बुनियादी कार्यबल के कौशल को उन्नत करना और प्रतिभागियों को उद्योगों में प्लेसमेंट के लिए वरीयता प्राप्तकरने में मदद करने के लिए एक मंच प्रदान करना है. जिसके लिए बिहार सरकार द्वारा 28 दिसंबर 2021 को इस प्रस्ताव को कैबिनेट की मंजूरी दे दी गयी थी.