पटना: राष्ट्रीय लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष और केंद्रीय मंत्री पशुपति पारस ने एक बार फिर दावा ठोक कर कहा है कि मैं ही हूं रामविलास पासवान का उत्तराधिकारी… उन्होंने बताया कि बड़े भाई की इक्छा थी कि मैं हाजीपुर क्षेत्र से चुनावी मैदान लड़ू। उन्होंने बताया कि रामविलास पासवान ने कहा था कि उन्हें जितना भरोसा उन पर है उतना परिवार के किसी भी सदस्य पर नहीं है।

दरअसल बिहार विधानपरिषद के उपसभागार में शनिवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान की स्मृति में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया था.हालांकि इस स्मृति कार्यक्रम में सांसद में रामविलास पासवान के दिए भाषणों के संग्रह से बनी किताब का विमोचन किया गया। इस कार्यक्रम में मौजूद केंद्रीय मंत्री पशुपति पारस ने लोगों को संबोधित करते हुए बताया कि रामविलास पासवान का उत्तराधिकारी में ही हूं।

रामविलास पासवान के राजनीतिक साम्राज्य पर दावा ठोकते हुए पशुपति पारस ने कहा है कि मैंने जितनी सेवा रामविलास पासवान की है उतनी किसी ने नहीं की है। आज बिहार विधानपरिषद के उपसभागार में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पशुपति पारस ने कई घटनाओं का जिक्र किया और साफ शब्दों में कहा कि, रामविलास पासवान की जगह उनकी अलावा कोई नहीं ले सकता है।

पशुपतिपारस ने कहा है कि बड़े भाई के आदेश पर मैंने अलौली विधानसभा से चुनाव लड़ा और जीता भी। पशुपति पारस के मुताबिक, वो बिहार की सियासत में दिलचस्पी लेते थे लेकिन उनके कहने पर मैंने हाजीपुर से चुनाव लड़ा और जीता। बतौर पशुपति पारस उनकी केंद्रीय राजनीति में जाने की ख्वाहिश नहीं थी। लेकिन बड़े भाई ने जब हाजीपुर से चुनाव लड़ने का निर्देश दिया तो उन्होंने चिराग पासवान का नाम सुझाया।