पहले किसी की शादी होनी रहती थी तो परिवार के लोग ही रिश्ता खोजते थे जहां वो अपने बेटे-बेटी की शादी करते थे। फिर पंडित और समाज के अन्य  लोगों का भी सहारा रिश्ता खोजने में लेने लगे। लेकिन जैसे-जैसे  इंटरनेट और मोबाइल युग का आगमन हुआ लोग हाईटेक होने लगे। अब लोग शादी के लिए लोग मेट्रोमोनियल साइट का सहारा लेने लगे हैं। लेकिन कभी-कभी इस साइट के चक्कर में लोग फंसकर अपनी जिन्दगी बर्बाद कर बैठते हैं और बाद में उन्हें काफी अफसोस होता है।

उत्तर प्रदेश की सिंघम के नाम से जानी जाने वाली शामली की डीएसपी श्रेष्ठा ठाकुर के साथ बड़ा धोखा हो गया। मेट्रोमोनियल साइट के चक्कर में उनकी जिन्दगी तबाह हो गयी। मेट्रोमोनियल साइट पर विश्वास करके श्रेष्ठा ने फर्जी IRS अफसर से 2018 में शादी कर बैठी। बाद में उसे पता चला कि पति फर्जी आईआरएस अफसर है तो पैर तले जमीन खिंसक गई।

उसने पति से तलाक लेने का फैसला लिया। तलाक लिये जाने के बाद भी पति उसके नाम पर लोगों से ठगी कर रहा था। जिसके बाद गाजियाबाद के कौशांबी थाने में केस दर्ज कराया गया। केस दर्ज होने के बाद पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। फिलहाल मामले की जांच की जा रही है।

यूपी की तेज तर्रार महिला डीएसपी श्रेष्ठा ठाकुर को लोग लेडी सिंघम के नाम से जानते हैं। 2018 में श्रेष्ठा की शादी मेट्रोमोनियल साइट के माध्यम से रोहित राज से हुई थी। रोहित ने बताया था कि वह 2008 बैच का IRS अफसर है। उसकी तैनाती रांची में डिप्टी कमिश्नर के पद पर है।

हालांकि बिटिया की शादी से पहले उनके परिजनों ने रोहित के बारे में जांच पड़ताल भी की थी। यह पता भी चला था रोहित राज रांची डिप्टी कमिश्नर है जिसके बाद उन्होंने अपनी बेटी डीएसपी श्रेष्ठा की शादी रोहित से करवाई थी। लेकिन शादी के बाद जो कुछ पता चला उसे जानकर श्रेष्ठा और उनके परिजनों के होश उड़ गये।

दरअसल डीएसपी श्रेष्ठा की जिस अफसर से शादी हुई वो फर्जी आईआरएस ऑफिसर निकला। जबकि मिलते-जुलते नाम की वजह से लोग फंस गये। रोहित राज नाम का आईआरएस अफसर है जिसकी तैनाती रांची डिप्टी कमिश्नर के रूप में हैं लेकिन वो डीएसपी श्रेष्ठा का पति रोहित राज नहीं है। बल्कि वो कोई और रोहित राज है।

यह सब मामला सामने आने के बाद श्रेष्ठा ठाकुर और उनके परिवार को पता चला कि उनके साथ धोखाधड़ी की गयी। श्रेष्ठा काफी सदमें में चली गयी जब उन्हें पता चल गया कि उनका पति कोई आईआरएस अधिकारी नहीं है। श्रेष्ठा ने इस शादी को बचाये रखने के लिए इस कड़वे घूंट को पीने की कोशिश की। लेकिन पति की धोखाधड़ी की आदत बढ़ती जा रही थी।

अब पति रोहित राज अपनी पत्नी डीएसपी श्रेष्ठा के नाम पर लोगों से ठगी करने लगता है। पति की करतूतों से तंग आकर डीएसपी श्रेष्ठा ने शादी के दो साल बाद पति से तलाक ले लिया। तलाक लेने के बाद भी वह अपनी आदतों से बाज नहीं आ रहा था। जिस जिले में श्रेष्ठा की तैनाती थी वही उनके नाम पर लोगों से ठगी करने लगा। जब लोगों से ठगी की जानकारी श्रेष्ठा ठाकुर को मिली तब उन्होंने रोहित राज के खिलाफ थाने में शिकायत दर्ज करायी। जिसके बाद पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। फिलहाल पुलिस पूरे मामले की छानबीन में जुटी है।