BPSC की तरफ से राज्य में बड़े पैमाने पर शिक्षकों की बहाली की गई है। ऐसे में पहले चरण में बाहर से छत लगातार अपनी सेवा भी दे रहे हैं लेकिन अब उनके साथ जो सबसे बड़ी समस्या आ रही है वह है उनका निवास स्थल का अब तक आवंटन नहीं हो पाना। ऐसे में अब इसको लेकर सरकार ने थोड़ी सतर्कता दिखाई है और यह निर्णय लिया गया है कि राज्य के नवनियुक्त शिक्षकों को तीन कमरों तक का आवास दिया जाएगा।

मिली जानकारी के अनुसार, शिक्षकों को अब तीन कमरों तक का आवास मिलेगा शिक्षक चाहे तो दो या एक कमरे का घर भी ले सकते हैं। आवास के लिए शिक्षकों को पहले आवेदन पत्र के जरिए अपनी इच्छा बतानी होगी। इसको लेकर जिला शिक्षा कार्यालय द्वारा स्कूलों को आवेदन पत्र भेजा जाएगा। उसके बाद सभी नवनियुक्त शिक्षकों को आवेदन पत्र भरना होगा इस आवेदन पत्र में शिक्षक जैसी जानकारी देंगे उसी अनुसार शिक्षा विभाग द्वारा उनके लिए आवास का निर्माण कराया जाएगा।

मालूम हो कि , शिक्षा विभाग अब तक शिक्षकों को आवास भत्ता देता रहा है लेकिन अब स्कूल के 3 किलोमीटर के दायरे में आवास मिलेगा इससे शिक्षक स्कूल के पास रहेंगे और समय पर स्कूल पहुंचेंगे हालांकि हर शिक्षक को घर का तीन विकल्प दिया जा रहा है इसमें एक दो और तीन कमरे के आवास का विकल्प शामिल है।

शिक्षकों को इन बातों की जानकारी देनी होगी कि आप नियोजित शिक्षक हैं या बीएससी अध्यापक इसके साथ ही साथ शिक्षा विभाग द्वारा उपलब्ध मकान में रहना चाहते हैं या नहीं आपको एक कमरा दो कमरा या तीन कमरे का घर चाहिए। इसके अलावा क्या आप अपना मकान दूसरे शिक्षक के साथ साझा करना चाहेंगे। अंतिम जवाबी देना होगा कि आपकी पदस्थापना किस जिले के किस विद्यालय में है.

आपको बताते चले कि, राज्य कर्मी का दर्जा मिलने के बाद नियोजित शिक्षकों को भी यह सुविधा होगी वेतन मध्य में आवास की राशि सीधे मकान मालिक के खाते में दी जाएगी जो शिक्षक मकान लेंगे उन्हें आवास भत्ता नहीं दिया जाएगा। पटना के DEO अमित कुमार ने कहा है कि शिक्षकों को मकान देने की प्रक्रिया शुरू है इसके लिए शिक्षकों से जानकारी मांगी गई है सभी शिक्षकों को आवेदन भर कर देना है इसके बाद विभाग जगह तय कर मकान बनवाएगा।