बिहार में पिछले महीने के अंतिम सप्ताह में यानी 28 जनवरी को एनडीए की सरकार बनी और सीएम नीतीश कुमार ने एक बार फिर से राजद के साथ अपना नाता तोड़ लिया। लेकिन, उसके बाद सूबे में जो राजनीतिक दुविधा बनी हुई है वो यह है की इस नई सरकार को 12 फरवरी के दिन विधानमंडल में अपना बहुमत साबित करना है और इसको लेकर राजद खेला होने की बात कह रही है।

इन सबके के बीच जो सबसे अहम बातें हैं वो यह है की राज्य की सभी मुख्य राजनीतिक पार्टी अपने विधायकों को एकजूट करने के लिए बैठक कर रही है तो कुछ लोग राजधानी से बाहर भी जाकर रणनीति तैयार कर रहे हैं। इसमें एक बड़ा नाम देश की सबसे बड़ी पार्टी के भाजपा के बिहार प्रदेश की भी है। भाजपा अपने सभी विधायकों को गया में रखकर फ्लोर टेस्ट हो लेकर रणनीति तैयार कर रही है। हालांकि, भाजपा इस बैठक को पार्टी का एक कार्यक्रम बता रही है। लेकिन, अंदरखाने में सियासी खिचड़ी भी जरूर पक रही है।

दरअसल, बोधगया में प्रदेश भाजपा के दो दिवसीय प्रशिक्षण शिविर में शामिल होने शनिवार की शाम पहुंचे पार्टी विधायकों व विधान पार्षदों ने एकजुटता दिखायी। उप मुख्यमंत्री सम्राट चौधरी ने दावा किया कि सभी विधायक पहुंच चुके हैं। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सोमवार को बिहार विधानसभा में विश्वास मत पेश करेंगे। इससे पहले बोधगया में भाजपा ने विधायकों का दो दिवसीय प्रशिक्षण का कार्यक्रम रख दिया है। विधायकों के आवाभगत की पूरी व्यवस्था की गयी है।अब यहीं से बीजेपी के सभी एमएलए बहुतमत परीक्षण में शामिल होने विधानमंडल पहुंचेंगे।

वहीं, इससे पहले इसके पहले शनिवार को पूरे दिन बारी-बारी से भाजपा के विधायकों व विधान पार्षदों का महाबोधि होटल में पहुंचने का सिलसिला चलता रहा। सम्राट चौधरी ने कहा कि भाजपा और जदयू के 123 और जीनतराम मांझी जी के पार्टी विधायक मिलाकर 128 विधायक हमारे साथ हैं। उन्होंने कहा कि शिविर में लोकसभा चुनाव की तैयारी, गांव तक पहुंच बढ़ाने आदि पर चर्चा होगी। शिविर के लिए बोधगया के 15 अलग-अलग होटल में ठहरने की व्यवस्था की गई है।

लेकिन, भाजपा के सूत्र बताते हैं की इस बैठक में शामिल हुए विधायकों से केंद्रीय मंत्री अमित शाह ने वीसी के माध्यम से बातचीत की है और यह निर्देश दिया है विधानसभा शुरू होने से पहले किन्हीं का भी फोन बंद नहीं होगा सभी लोग एक दूसरे के संपर्क में रहेंगे और यदि किन्हीं को भी जाना है तो अभीही उसकी सूचना दें, जिसके बाद सभी विधायकों में यह भरोसा दिलाया है की वो लोग एकसाथ हैं और भाजपा से बाहर नहीं जा रहे हैं।

उधर, मंत्री डॉ. प्रेम कुमार ने कहा कि कांग्रेस पार्टी टूटने के कगार पर है। राजद के एक दर्जन विधायक रडार से बाहर हैं। मंगल पांडेय ने कहा कि जो खेला होने की बात करते थे वे पार्टी बचाने में लगे हैं। पूर्व मंत्री भाजपा नेता नितिन नवीन ने कहा है कि राजद नेता के घर में ही खेला हो रहा है। अब उनकी पत्नी मैदान में आ गई है। तेजस्वी ने अपने बड़े भाई व बहन को दरकिनार कर दिया है। वहीं प्रदेश भाजपा प्रवक्ता प्रभाकर कुमार मिश्र ने दावा किया है कि सोमवार को होनेवाला फ्लोर टेस्ट सिर्फ औपचारिकता है। कहा कि खेला होने का दावा किया जा रहा था जो फुस्स साबित हो चुका है। खेला होने का दावा करने वाले दल पहले अपने दल के अंदर झांकें कि उनके कितने विधायक असंतुष्ट हैं। महागठबंधन के दल असंतुष्ट विधायकों को कितने दिनों तक बांधकर रख सकेंगे।