बिहार में नयी सरकार के फ़्लोर टेस्ट से पहले खेला की चर्चाओं को आज जेडीयू विधायकों की बैठक ने और हवा दे दिया. मंत्री श्रवण कुमार के आवास पर हुई बैठक में जमकर ड्रामा हुआ. विधायक समय पर नहीं पहुँचे तो नीतीश कुमार ग़ुस्से में बैठक छोड़ कर निकल गये. फिर पार्टी के नेताओं ने पूरी ताक़त झोंक दी. लेकिन बैठक खत्म होने के बाद की रिपोर्ट यही है कि पाँच विधायक ग़ायब रहे।

जेडीयू की बैठक में ड्रामा

बता दें कि 12 फ़रवरी को विधानसभा में फ़्लोर चेस्ट से पहले सियासी खेला होने की चर्चा आम है. ऐसे में सतर्क हुए जेडीयू नेताओं ने 9 फ़रवरी से ही अपने सारे विधायकों को पटना में मौजूद रहने का निर्देश दिया था. पार्टी के सारे विधायकों को शनिवार को मंत्री श्रवण कुमार के आवास पर 12 बजे दिन में पहुँचने को कहा गया था. वहाँ उनकी बैठक के साथ साथ भोजन का भी इंतज़ाम था. लेकिन शुरू में ही ड्रामा हो गया।

12 बजे शुरू होने वाली बैठक में नीतीश कुमार तक़रीबन साढ़े 12 बजे पहुँच गए. लेकिन तब तक बमुश्किल एक दर्जन विधायक ही वहाँ पहुँचे थे. नीतीश कुमार ने विधायकों की इतनी कम तादाद को देखा तो वे हत्थे से उखड़ गये. नाराज़ नीतीश श्रवण कुमार के आवास से वापस लौट गये।

इसके बाद पार्टी के वरीय नेता सक्रिय हुए. विधायकों को ताबड़तोड़ फ़ोन किये जाने लगा. तब जाकर उनके पहुँचने का सिलसिला शुरू हुआ. एक एक कर विधायक पहुँचने लगे तो नेताओं को थोड़ा चैन आया. लेकिन बैठक और भोज की समाप्ति तक पार्टी के सारे विधायक नहीं पहुँच पाये।

जानिये कौन कौन नहीं पहुँचे

जेडीयू के 45 विधायकों में से 40 विधायक ही आज श्रवण कुमार के आवास पर पहुँचे. जो पाँच विधायक नहीं पहुँचे उनके नाम सामने आ गये है. जेडीयू सूत्रों के मुताबिक़ पार्टी के विधायक सुदर्शन, बीमा भारती, दिलीप राय, शालिनी मिश्रा और डॉ संजीव कुमार आज की बैठक में नहीं पहुँचे. पार्टी के नेता इन पाँच विधायकों में से तीन से संपर्क साध पाये हैं. लेकिन दो से बात नहीं हो पायी है।

बीमा भारती और सुदर्शन से संपर्क नहीं

जेडीयू सूत्रों के मुताबिक़ पार्टी नेताओं की तमाम कोशिशों के बावजूद दो विधायकों से संपर्क नहीं हो पाया है. वे हैं बीमा भारती और सुदर्शन. बरबीघा के विधायक सुदर्शन पहले से ही नाराज़ हैं. उनकी नाराज़गी नीतीश के करीबी मंत्री अशोक चौधरी से है. सुदर्शन बरबीघा में ही मौजूद हैं और जेडीयू के नेताओं से बात नहीं कर रहे हैं. वहीं बीमा भारती नीतीश सरकार में मंत्री रहीं लेसी सिंह से नाराज़ हैं. वे पहले भी खुलकर लेसी सिंह के खिलाफ बोलती रही हैं. बीमा भारती साफ़ कर चुकी हैं अगर इस बार भी लेसी सिंह को मंत्री बनाया गया तो वे पार्टी के साथ नहीं रहेंगी।

तीन विधायकों ने कारण बताये

जेडीयू की बैठक से आज ग़ायब रहे बाक़ी के तीन विधायकों ने नहीं आने के कारण बताये हैं. विधायक डॉ संजीव ने बताया कि वे परिवार के साथ गोवा में हैं लेकिन रविवार तक पटना पहुँच जायेंगे. वहीं शालिनी मिश्रा ने बताया है कि वे दिल्ली में हैं और रविवार को पार्टी की बैठक में मौजूद रहेंगी. जेडीयू के एक और विधायक दिलीप राय ने जमशेदपुर में होने जानकारी दी है और रविवार को होने वाली बैठक में मौजूद रहने का भरोसा दिलाया है।

मैनेजमेंट में जुटे जेडीयू नेता

जेडीयू ने रविवार को फिर से विधायकों को मंत्री विजय चौधरी के आवास पर डिनर पर आने को कहा है. उससे पहले नाराज़ चल रहे विधायक बीमा भारती और सुदर्शन को मनाने की पूरी क़वायद शुरू कर दी गयी है. पार्टी के ख़ास दूत को दोनों विधायकों के पास रवाना कर दिया गया है. अब देखना होगा कि उनकी कोशिश कहाँ तक कामयाब हो पाती है।