पंचतत्व में विलीन हुए राजू श्रीवास्तव, परिवार और फैंस ने नम आंखों से दी विदाई

कॉमेडी की दुनिया के बेताज बादशाह राजू श्रीवास्तव का आज दिल्ली के निगम बोध घाट पर अंतिम संस्कार किया गया. 21 सितंबर को 58 वर्ष की आयु में इलाज के दौरान उनका दिल्ली एम्स में निधन हो गया था. राजू श्रीवास्तव के निधन की खबर से देशभर में उनके चाहने वालों पर मानों दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है।

41 दिनों के इलाज के बाद तोड़ा दम

दरअसल, कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव का 58 साल की उम्र में बुधवार को दिल्ली में निधन हो गया. 41 दिनों के इलाज के बाद कॉमेडियन ने बुधवार को सुबह 10.20 बजे अंतिम सांस ली. राजू को 10 अगस्त को सीने में दर्द होने और जिम में कसरत के दौरान गिरने के बाद दिल्ली एम्स में भर्ती कराया गया था।

राजू श्रीवास्तव के ब्रेन तक नहीं पहुंच पा रही थी ऑक्सीजन

राजू श्रीवास्तव, निधन से पहले तक वेंटिलेटर सपोर्ट पर थे. हालांकि, उनके परिजनों की ओर से लगातार बताया जा रहा था कि उनकी हाल स्थिर है. इस बीच उन्हें कई बार वेंटिलेटर हटाने पर भी विचार किया गया. हालांकि, बार-बार बुखार आने के कारण उन्हें वेंटिलेटर सपोर्ट से नहीं हटाया जा सका. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव के ब्रेन तक ऑक्सीजन नहीं पहुंच पा रही थी।

कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव एक ऐसा नाम थे, जोकि तनाव भरी दुनिया में चुटकुलों की फुहार लेकर आए थे. गजोधर भैया के किरदार के साथ उन्होंने कॉमेडी को यूपी-बिहार को एक ऐसा देशी टोटका थमा दिया, जिसने लाखों-करोड़ों लोगों का दिल जीत लिया. हास्य कलाकार राजू श्रीवास्तव को 10 अगस्त को दिल का दौरा पड़ा था जिसके बाद उनको दिल्ली के एम्स में भर्ती कराया गया था, जहां पर 41 दिनों से उनका इलाज चल रहा था. इलाज के दौरान बुधवार को हास्य कलाकार राजू श्रीवास्तव का निधन हो गया।