बिहार में फ्लोर टेस्ट से पहले आरजेडी ने गंभीर आरोप लगाए हैं. आरजेडी के प्रवक्ता शक्ति सिंह यादव (Shakti Singh Yadav) ने सोमवार (12 फरवरी) को बयान जारी किया है जिससे सियासी गलियारे में खलबली मच गई है. शक्ति सिंह यादव के आरोप से सवाल उठ रहे हैं कि क्या आरजेडी के विधायक चेतन आनंद (Chetan Anand) और एमएलए नीलम देवी (Neelam Devi) सीएम नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) के साथ हो गए हैं?

दरअसल, शक्ति सिंह यादव ने बयान जारी करते हुए कहा है कि आरजेडी के दो विधायक चेतन आनंद और नीलम देवी को सत्ता पक्ष के लोगों ने सचेतक के कमरे में बैठाया है. धमकी दिलवाई और क्या-क्या किया है यह बात देश में किसी से छिपी नहीं है. आरजेडी के विधायक दल की बैठक चल रही थी. विधायक दल की बैठक जहां हो रही थी वहां शासन के लोग? मजिस्ट्रेट के नेतृत्व में प्रशासन और आलाधिकारी थे कि इनके घर में परेशानी है. इनके घर के लोग परेशान हैं।

शक्ति सिंह बोले- ‘ऐसे लोकतंत्र नहीं चलता है…’

शक्ति सिंह यादव ने कहा कि इन्हें ले जाने के लिए मजबूर किया गया और ले गए. अभी दोनों सत्ता पक्ष के सचेतक के कमरे में दिखाई दे रहे हैं. ये कौन सा ट्रेडिंग है हमें कोई बता दे. बीजेपी पर हमला करते हुए शक्ति सिंह ने कहा कि विधायकों को बस में ले जाकर कोई गया में मीटिंग करता है तो वो रासलीला और हम अपने विधायकों के साथ बैठक कर बात कर रहे हैं तो कैरेक्टर ढीला? ऐसे लोकतंत्र नहीं चलता है।

चेतन आनंद के भाई ने की थी पुलिस से शिकायत

बता दें कि आरजेडी के विधायक चेतन आनंद के भाई अंशुमान आनंद ने पाटलिपुत्र थाने में सनहा दर्ज कराया था. कहा था कि उनके भाई चेतन आनंद आरजेडी से विधायक हैं. 10 फरवरी को वह घर से यह कहकर निकले थे कि एक जरूर मीटिंग में जा रहे हैं. शाम छह बजे उनके मोबाइल पर संपर्क हुआ और उन्होंने कहा था कि 7 बजे तक आ जाएंगे, लेकिन वह नहीं आए. अब उनसे संपर्क नहीं हो पा रहा है. इसके बाद पुलिस तेजस्वी यादव के आवास पर पहुंची थी. इसी के बाद अब शक्ति सिंह का बयान आया है।