विधानसभा में राष्ट्रीय जनता दल के सचेतक अख्तरुल ईमान शाहीन ने विधानसभा अध्यक्ष को पत्र लिखकर राजद से अन्य दल में जाने वाले चार विधायक पर कार्रवाई करने की मांग की है. बता दें कि बिहार में एनडीए सरकार के गठन के बाद राजद के विधायक चेतन आनंद, नीलम देवी, संगीता कुमारी और प्रहलाद यादव सत्र के दौरान सत्ता पक्ष के साथ बैठे हुए दिखाई दे रहे हैं. चेतन आनंद, नीलम देवी, संगीता कुमारी और प्रहलाद यादव ने तो विश्वास मत के दौरान सत्ता पक्ष का समर्थन भी किया था।

“हमारे नेता तेजस्वी यादव ने हमें पार्टी का सचेतक बनाया है और सचेतक होने के नाते ही विधानसभा अध्यक्ष को हमने पत्र लिखकर इन चारों विधायकों को सदन से निष्कासित करने की मांग की है.”- अख्तरुल ईमाम शाहीन, राजद विधायक सह सचेतक, बिहार विधान सभा

विधानसभा अध्यक्ष को लिखा पत्रः अख्तरुल ईमान ने कहा कि ये चारों राजद के सिंबल पर वर्ष 2020 में विधानसभा चुनाव लड़ा था. लेकिन सदन में इन्होंने सत्ता पक्ष का साथ दिया है. राजद ने जो व्हिप जारी किया था उसके खिलाफ जाकर इन्होंने वोट दिया है, जो कि गलत है. इसीलिए पार्टी इनलोगों पर कारवाई करने की मांग कर रही है. विधानसभा अध्यक्ष को पत्र लिखा गया है।

भाजपा लोकतंत्र की हत्या कर रहीः विधानसभा में राजद के सचेतक ने कहा कि बिहार में भारतीय जनता पार्टी लगातार हॉर्स ट्रेडिंग कर रही है, जो कि कहीं से भी ठीक नहीं है. विधानसभा अध्यक्ष को स्वतः संज्ञान लेना चाहिए. उन्होंने कहा कि निश्चित तौर पर जो कुछ हो रहा है वह लोकतंत्र के लिए ठीक नहीं है. लगातार भाजपा के लोग लोकतंत्र की हत्या कर रहे हैं और इसकी जानकारी विधानसभा अध्यक्ष को भी है. निश्चित तौर पर विधानसभा अध्यक्ष को कार्रवाई करनी चाहिए।