राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की बेटी रोहिणी आचार्य ने अंबिका भवानी मंदिर में पूजा-अर्चना की. इस दौरान मंदिर परिसर में रोहिणी आचार्य की एक झलक पाने के लिए हजारों की भीड़ जुट गई थी. लगभग एक घंटा पूजा और आरती करने के बाद रात 10 बजे वह छपरा के लिए निकल गई. हालांकि इस दौरान उन्होंने पत्रकारों के सवाल का कोई जवाब नहीं दिया।

जगह-जगह गर्मजोशी से स्वागत: दरअसल रोहिणी आचार्य के द्वारा जनसंपर्क अभियान की शुरुआत की गई. पटना से अपने आवास से निकलकर रोहिणी सोनपुर स्थित बजरंग चौक पहुंची, जिसके बाद वहां से उनका काफिला छपरा के लिए निकला. रास्ते में समर्थकों की भीड़ ने उनका गर्म जोशी के साथ स्वागत किया. भीड़ की वजह से उनका काफिला आगे बढ़ नहीं पा रहा था, इसलिए वह कई जगह अपने तय शुदा कार्यक्रम से लगभग 8 से 10 घंटे लेट पहुंची।

घर-घर जाकर जनसंपर्क अभियान: जनसंपर्क अभियान में रोहिणी के साथ विधान पार्षद सुनील कुमार सिंह और उनकी पत्नी समेत राजद के सारण के कई विधायक भी मौजूद थे. बता दें कि रोहिणी अपने अभियान के तहत जिले के गड़खा, छपरा सदर, मढ़ौरा, अमनौर, परसा और सोनपुर विधानसभा क्षेत्र का दौरा करेंगी और घर-घर जाकर जनसंपर्क अभियान चलाएंगी।

चुनावी अखाड़े में लालू की लाडली: बता दें कि राज्यसभा सांसद मीसा भारती के साथ-साथ रोहिणी आचार्य भी इस बार लोकसभा चुनाव में भाग्य आजमाएंगी. राष्ट्रीय जनता दल की ओर से उनको सारण लोकसभा सीट से उम्मीदवार बनाया गया है. रोहिणी ने खुद ही सोशल मीडिया पर पोस्ट शेयर कर सारण की जनता से समर्थन और जनसंपर्क अभियान में शामिल होने की अपील की है।