कांग्रेस ने पीवी नरसिम्हा राव, चौधरी चरण सिंह और एमएस स्वामीनाथन को ‘भारत रत्न’ (मरोणपरांत) पुरस्कार दिए जाने की घोषणा के बाद शुक्रवार को कहा कि ये तीनों महान व्यक्तित्व भारत के रत्न थे, हैं और सदैव रहेंगे। पार्टी महासचिव जयराम रमेश ने ‘एक्स’ पर पोस्ट किया, ‘‘पीवी नरसिम्हा राव, चौधरी चरण सिंह और एमएस स्वामीनाथन जी भारत के रत्न थे, हैं और सदैव रहेंगे। उनका योगदान अभूतपूर्व था, जिसका हर भारतीय सम्मान करता है।’’

कांग्रेस नेता ने कहा कि ‘भारत जोड़ो न्याय यात्रा’ में किसानों को न्याय दिलाया जाना एक मुख्य उद्देश्य है। उन्होंने कहा कि, ‘‘ ‘किसान न्याय’ के लिए हमारी मांग है कि स्वामीनाथन फ़ॉर्मूले के आधार पर किसान को न्यूनतम समर्थन मूल्य की क़ानूनी गारंटी दी जाए। यही पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह जी और स्वामीनाथन जी को सही मायनों में श्रद्धांजलि होगी।’’

सोनिया गांधी ने क्या कहा?

कांग्रेस संसदीय दल की प्रमुख सोनिया गांधी ने नरसिम्हा राव को ‘भारत रत्न’ दिए जाने की घोषणा का स्वागत किया। इस बारे में पूछे जाने पर सोनिया गांधी ने संसद परिसर में संवाददाताओं से कहा, ‘‘मैं इसका स्वागत करती हूं।’’

क्या बोला नरसिम्हा राव का परिवार?

वहीं, नरसिम्हा राव की बेटी एवं भारत राष्ट्र समिति (BRS) से विधानपरिषद सदस्य वाणी देवी ने देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘भारत रत्न’ के लिए अपने पिता को नामित किए जाने की शुक्रवार को सराहना की और इस निर्णय के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का आभार जताया। वाणी ने कहा कि नरसिंह राव उस वक्त प्रधानमंत्री बने थे जब देश मुश्किल समय का सामना कर रहा था। उन्होंने (राव ने) सुधारों को लागू किया जिसकी पूरे विश्व ने सराहना की। उन्होंने कहा, ‘‘दलगत भावना से ऊपर उठकर राव के योगदान को मान्यता देना और भारत रत्न प्रदान करना हमारे प्रधानमंत्री (मोदी) के अच्छे मूल्यों को दर्शाता है।’’

कांग्रेस नेता नरसिम्हा राव ने प्रधानमंत्री रहने के दौरान सुधारों की पहल की और अर्थव्यवस्था से लेकर विदेश मामलों जैसे क्षेत्रों में समस्याओं का स्थायी समाधान तलाशा। वाणी ने कहा, ‘‘भारत रत्न सर्वोच्च नागरिक सम्मान है। हालांकि, इसमें कुछ देर हुई, लेकिन ठीक है। तेलंगाना के लोग नरसिम्हा राव को भारत रत्न दिए जाने से बहुत खुश हैं। परिवार के सदस्य अभिभूत हैं।’’