भागलपुर:बीपीएससी द्वारा आयोजित सहायक अभियोजन पदाधिकारी परीक्षा (2023) में बरारी आरएचएमटी लेन के विजयकांत कुमार ने अपने प्रथम प्रयास में ही सफलता हासिल कर ली। सहायक अभियोजन पदाधिकारी में चयनित होकर जिले समेत पूरे बिहार का नाम रोशन किया।

बता दें विजयंत कुमार भागलपुर जिले के मूल निवासी है,उनके पिता जी की मौत 2013 में हो चुकी है। इस दौरान पढ़ाई में उनको कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। लेकिन परिवार वाले उसे हौसला देता रहा।आखिरकार उन्होंने मुकाम हासिल कर लिया।पिता के मृत्यु के बाद विजयंत पूरी तरह से टूट चुका।लेकिन मां और भाई का सपोर्ट बेहतर रहा और उन्होंने मंजिल हासिल की।परिवार में सबसे उच्च पोस्ट की नौकरी विजयंत कुमार ने ही प्राप्त की है। जिससे परिवार वालों में काफी खुशी है।

वही परिवार वालो ने मिठाई बाटकर खुशी जाहिर करते वक्त मीडिया से बातचीत के दौरान विजयंत कुमार के मां भावुक हो उठी और उन्होंने विजयंत के लाइफ स्ट्रगल के बारे में बताया।वही विजयंत की मां पूरी तरह से भावुक हो गई और उन्होंने मिडिया से बातचीत के दौरान बताया कि देर रात तक खूब पढ़ाई करता था।इसके इस सफलता से सिर्फ परिवार ही नहीं बल्कि समाज के लोग भी खुश है।

वही विजयंत ने बताया कि लॉ कॉलेज में पढ़ाई के दौरान सीनियर ने सहायक अभियोजन पदाधिकारी के बारे में बताया और कहा कि समाज से जुड़ने के लिए यह पद भी बेहद महत्वपूर्ण होता है। तभी से बीपीएससी की तैयारी में जुट गए। देर रात तक पढ़ाई के क्षेत्र में मेहनत करता था, परिवार का भी खूब सपोर्ट रहा।

दिन में समय नहीं मिलने के कारण,अधिकतर पढ़ाई रात में ही करता था। उन्होने बताया कि रात में करीब चार घंटे तक वह पढ़ाई करते थे।आगे बताया कि प्रारंभिक विद्यालय के बाद उन्होंने टीएमबीयू से स्नातक किया और एलएलबी तक पढ़ाई टीएनबी लॉ कॉलेज से की।वर्तमान में इसी कॉलेज से एलएलएम का पराई कर रहे है।

इस दौरान कठिनाइयां कई सामने आई।लेकिन परिवार वालों ने कहा मेहनत करते रहिए सफलता हाथ जरूर लगेगी।वही अन्य युवाओं से भी उन्होंने अनुरोध किया कि किसी भी कार्य को पूरे लगन से करें।किसी भी कार्य को पूरे मन से करने के बाद सफलता जरूर हाथ लगती है।