• Sat. Aug 13th, 2022

तेजप्रताप यादव ने ट्वीट कर लिखा- “रामनवमी के अवसर पर बहुत जरूरी, ENTRY नीतीश चाचा.

बिहार को विशेष राज्य का दर्जा, जातीय जनगणना, शराबबंदी समेत कई मुद्दों पर बीजेपी और जेडीयू के बीच टकराव चल रहा है. कानून व्यवस्था के मुद्दे पर सीएम नीतीश कुमार के साथ स्पीकर विजय कुमार सिन्हा की हुई बहस से इन दोनों पार्टियों के बीच तल्खी और बढ़ी थी. अब इधर आरजेडी के विधायक और लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव ने ट्विटर पर एक पोस्ट कर हलचल बढ़ा दी है.

रविवार को रामनवमी के दिन तेज प्रताप यादव ने यह पोस्ट किया है. ट्वीट कर लिखा- “रामनवमी के अवसर पर बहुत जरूरी. ENTRY नीतीश चाचा.” हालांकि पोस्ट के मायने क्या हो सकते हैं इसका तो पता नहीं लेकिन ट्विटर पर कुछ यूजर्स मजाक भी उड़ाने लगे. तेज प्रताप के पुराने ट्वीट्स को उठाकर कमेंट करने लगे. एक शख्स ने उस तस्वीर को कमेंट में पोस्ट किया है जिसमें तेज प्रताप ने कभी नीतीश कुमार के लिए लिखा था नो एंट्री नीतीश चाचा.

एक यूजर ने लिखा- “पहले ये तो बताइए.. आप खुद कहां भाग लिए धमकी दे के?? कि सच में नासमझ निकले?? वैसे अब तो आप राजद के पोस्टर से भी गायब होने लगे हैं.. और फिर राजनीति से तो नहीं गायब हो जाएंगे??” वहीं एक दूसरे यूजर ने लिखा- “आपके इस पोस्ट के लिए मैं स्वयं ट्रेन की पटरियों के किनारे किनारे चलकर राष्ट्रपति भवन जाऊंगा और आपको भारत रत्न देने के लिए राष्ट्रपति से गुहार लगाऊंगा.”

नीतीश कुमार को गठबंधन का ऑफर?

बता दें कि 77 विधायकों के साथ बिहार विधानसभा में बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बन गई है. अब 43 विधायकों के साथ जेडीयू तीसरे नंबर पर है. बीजेपी के समर्थन से नीतीश कुमार मुख्यमंत्री हैं. आए दिन बीजेपी की तरफ से मांग उठ रही है कि बिहार में बीजेपी का सीएम होना चाहिए. लगातार विवाद भी हो रहा है. मंत्री जनक राम ने कहा था कि मस्जिदों में लाउडस्पीकर से होने वाले अजान पर रोक लगनी चाहिए. ऐसे में ये सवाल उठ रहा है कि क्या तेज प्रताप यादव सीएम नीतीश को आरजेडी से गठबंधन का ऑफर दे रहे हैं?

गौरतलब है कि यह वही तेज प्रताप हैं जिन्होंने तीन जुलाई 2018 को एक पोस्टर दिखाया था जिसमें लिखा था नो एंट्री नीतीश चाचा. यह पोस्टर तेज प्रताप ने 3 जुलाई 2018 को तब दिखाया था जब पत्रकारों ने उनसे पूछा था कि क्या फिर से आरजेडी और जेडीयू का गठबंधन होगा.