जेडीयू नेता अशोक चौधरी ने तेजस्वी यादव पर मध्यावधि चुनाव का भ्रम फैलाने का आरोप लगाया है. अशोक चौधरी ने कहा कि उनकी पार्टी ने तो वन नेशन, वन इलेक्शन पर अपनी राय दी है. नीतीश को बिना विजन का नेता बताने पर अशोक चौधरी ने कहा कि जिस नीतीश कुमार की कई योजनाओं को देश-दुनिया की दाद मिली, उन्हें बिना विजन का नेता बताना बहुत बड़ा मजाक है।

‘आरजेडी के झांसे में नहीं आनेवाली जनता’: अशोक चौधरी ने कहा कि आरजेडी अफवाह फैलानेवाली ही पार्टी और समय-समय पर ऐसी बेतुकी बातें करते रहते हैं. अशोक चौधरी ने कहा कि मध्यावधि चुनाव वाली बात कह कर तेजस्वी ऐसी ही अफवाह फैला रहे हैं. जबकि कभी भी मध्यावधि चुनाव को लेकर कोई बात ही नहीं हुई. जनता तेजस्वी यादव और आरजेडी के किसी भी झांसे में आनेवाली नहीं है।

‘नीतीश के विजन की दुनिया कायल’: नीतीश कुमार को बिना विजन का नेता वाले तेजस्वी के बयान पर भी अशोक चौधरी ने पलटवार किया. अशोक चौधरी ने कहा कि नीतीश कुमार के विजन की तो दुनिया कायल है. लड़कियों के लिए साइकिल योजना, पौशाक योजना, जल-नल योजना, जल-जीवन हरियाली योजना निश्चित तौर पर नीतीश के विजन के नमूने हैं. बिहार में शुरुआत के बाद ही केंद्र और कई राज्यों ने इन योजनाओं को अपनाया।

’32 हजार करोड़ से 2 लाख 70 हजार करोड़ तक पहुंचाया’: अशोक चौधरी ने कहा कि अगर सीएम नीतीश के पास विजन नहीं होता तो कभी 32 हजार करोड़ के बजट वाले बिहार का बजट 2 लाख 70 हजार करोड़ तक कैसे पहुंच पाता ? ये सब सीएम नीतीश कुमार के विजन और उस पर काम करने से ही संभव हुआ है. निश्चित तौर पर सीएम के पास बिहार को आगे बढ़ाने का विजन है और इस काम में उनको सफलता भी मिल रही है।

मध्यावधि चुनाव की चुनौती दे रहे हैं तेजस्वीः बता दें कि आरजेडी नेता तेजस्वी 20 फरवरी से जन विश्वास यात्रा कर रहे हैं. अपनी सभाओं में वे सरकार पर विधानसभा भंग करने और मध्यावधि चुनाव कराने की साजिश का आरोप तो लगा ही रहे हैं, नीतीश कुमार पर जमकर निशाना साध रहे हैं. सीएम नीतीश को तेजस्वी थका और बिना विजन का नेता कहते आ रहे हैं।