बिहार के 12 तारीख को होने वाले फ्लोर टेस्ट को लेकर प्रदेश की राजनीतिक हलचल बढ़ी हुई है, हर नेता अपनी पार्टी के पक्ष में जीत का दावा करने में जुटा है. वहीं बोधगया में विशेष प्रशिक्षण शिविर में पहुंचे भाजपा के विधान पार्षद नवल किशोर यादव ने कहा कि तेजस्वी की सत्ता चली गई, अब कुछ नहीं होने वाला, उन्होंने कहा कि मरा हुआ घोड़ा घास नहीं खाता।

बीजेपी नेता का तेजस्वी यादव पर तंजः दरअसल भाजपा के एमएलसी नवल किशोर यादव के बोधगया पहुंचने पर मीडिया ने उनसे तेजस्वी के ‘खेला होने’ के बयान पर सवाल पूछा. इस पर एमएलसी नवल किशोर यादव ने कहा कि उनकी सत्ता चली गई और खेला करने की बात करते हैं. वो अपने विधायकों को ही ठीक से रख लें, यही उनकी सफलता होगी. वहीं, भाकपा माले के दो विधायकों के जीतन राम मांझी से मुलाकात पर उन्होंने कहा कि मांझी जी कहीं नहीं जाएंगे. जीतन राम मांझी गरीब जरूर हैं, पर बेवकूफ नहीं।

“अपने राजद विधायकों को दिलासा देने के लिए तेजस्वी यादव इस तरह की बात करते हैं, ताकि वह कहीं जाए नहीं. मरा हुआ घोड़ा घास नहीं खाता है. अपने विधायकों को यह ठीक से रख लें, यही उनकी सफलता होगी. हमलोग फ्लोर टेस्ट में पास हैं, इससे इनकार नहीं है, 128 से आंकड़ा बढ़ेगा.”- नवल किशोर यादव, एमएलसी, भाजपा

राहुल गांधी की यात्रा पर साधा निशानाः वहीं, बीजेपी एमएलसी ने राहुल गांधी की न्याय यात्रा पर कहा कि घर-घर सारंगी बजाने से कोई प्रधानमंत्री नहीं बन जाता. इसके लिए आई कांटेक्ट चाहिए. भारत के लोगों से, भारत के युवाओं से, वही प्रधानमंत्री हो सकता है. वहीं, बिहार कांग्रेस के विधायकों के दूसरे राज्य में होने के बाबत कहा कि वे शुद्धि करवा रहे हैं. जिस तरह राहुल गांधी टीका चंदन लगा कर शुद्धि करवा रहे हैं. उसी तरह कांग्रेस के विधायक भी शुद्धि करने दूसरे राज्य गए हैं. नवल किशोर यादव ने विपक्ष पर जमकर प्रहार किया।

बोधगया में बीजेपी का प्रशिक्षण शिविरः बता दें कि बोधगया में शनिवार को बिहार भाजपा के विधायकों, एमएलसी का विशेष प्रशिक्षण शिविर चला. दिन भर गहमागहमी रही. विधायक-एमएलसी आते रहे. सब की नजरें इस पर टिकी थी कि कितने विधायक आते हैं और कितने अनुपस्थित रहते हैं. इसका कारण यह था, कि बिहार में फ्लोर टेस्ट से पहले भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व के निर्देश के बाद इस विशेष प्रशिक्षण शिविर आयोजित किया गया है. भाजपा के विशेष प्रशिक्षण शिविर में फ्लोर टेस्ट को लेकर बयानबाजी भी खूब हुई।