बिहार में नीतीश कुमार के नेतृत्व में नयी सरकार बनने के बाद जमकर खेला हुआ. खेला ऐसा हुआ कि विधानसभा में अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग के दौरान बीजेपी के तीन विधायक गायब हो गये. जेडीयू के दो विधायक गायब थे. राजद के तीन विधायकों ने सदन के बीच पाला बदल लिया और विपक्षी बेंच से उठकर सत्तापक्ष के साथ जा बैठे. ये खेला कैसे हुआ, इसकी कहानी सामने आयी है. कहानी ये है कि एक-एक विधायक को बिकने के लिए 10 करोड़ रूपये का ऑफर दिया जा रहा था.

जेडीयू विधायक का एफआईआर

ये सारी कहानी जेडीयू के विधायक सुधांशु शेखर के एफआईआर से सामने आयी है. सुधांशु शेखर ने पटना के कोतवाली थाने में 11 फरवरी को ही प्राथमिकी दर्ज करायी थी. आज वह एफआईआर सामने आया है. इसमें सुधांशु शेखर ये बता रहे हैं कि एक विधायक की कीमत कितनी थी और किन-किन विधायकों को खरीदने की कोशिश हुई.

तेजस्वी के करीबी ने दिया 10 करोड़ का ऑफर

विधायक सुधांशु शेखर ने अपने एफआईआर में कहा है “मैं सुधांशु शेखर, विधायक, 31 हरलाखी विधान सभा क्षेत्र, मधुबनी हूं. मैं जनता दल यूनाइटेड राजनितिक दल का सदस्य हूँ. वर्तमान में दिनांक 12.02.2024 को हमारे दल की सरकार का विश्वासमत प्रस्ताव पेश होना है. मैं अपने पार्टी के नीतियों के साथ मजबूती से खड़ा हूँ.”

सुधांशु शेखर ने जो एफआईआर दर्ज करायी है उसमें आगे कहा गया है “दिनांक 09.02.2024 को रात्रि 08.32 मिनट पर मुझे मेरे मेहमान (बहनोई) रणजीत कुमार का हाजीपुर से मेरे मोबाइल न० 8809041093 पर वाट्सएप पर कॉल आया. उन्होंने मुझसे कहा कि इंजिनियर सुनील आये हैं, आपसे बात करना चाहते हैं.

जब मैंने उनसे बात किया तो वे बोले कि आप महागठबंधन के साथ आ जाईये. अभी पांच करोड़ दे देते हैं और पांच करोड़ काम होने के बाद देंगे. नहीं तो मंत्री पद ले लीजिये. मैंने उनसे बाद में सोचकर बताते हैं, कहकर टाल दिया. उसने कहा कि कहियेगा तो हम डेरा पर आ जायेंगे, किदवईपूरी पटना में ही रहते हैं.

राहुल गांधी के करीबी ने किया फोन

विधायक सुधांशु शेखर ने पुलिस को बताया है “दिनांक 10.02.2024 को 10.11 बजे सुबह पूर्व मंत्री नागमणि कुशवाहा के नंबर से वाट्सएप कॉल आया कि अखिलेश जी आपसे बात करना चाहते हैं, जल्द ही संपर्क करेंगे. पुनः एक घंटे के बाद 11.02 मिनट पर +32460220333 नम्बर से इन्टरनेट कॉल आया. बात करनेवाले व्यक्ति ने अपना नाम अखिलेश बताया और स्वयं को राहुल गाँधी का करीबी बताया और कहा कि आप हमारे साथ आ जाईये एवं इसके बदले में जो भी आपका डिमांड होगा, पूरा होगा. विश्वासमत प्रस्ताव में हमारे गठबंधन का सपोर्ट कीजिये.”

पुलिस ने कहा-जांच कर रहे हैं

ये एफआईआर 11 फरवरी को ही दर्ज करायी गयी थी. वैसे बीमा भारती की अपहरण की बात कही गयी लेकिन वे आज विधानसभा में पहुंची थी. लेकिन विधायक दिलीप राय का कोई अता पता नहीं है. विधायक सुधांशु शेखर के बयान पर कोतवाली थाना पुलिस ने एफआईआर दर्ज किया है. कोतवाली डीएसपी कृष्ण मुरारी प्रसाद ने मीडिया को बताया कि पूरे मामले के एक-एक बिन्दू की जांच की जा रही है. पुलिस ने फिलहाल किसी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की है. पूरे मामले की छानबीन के बाद उचित कार्रवाई की जायेगी।