माउंट एवरेस्ट पर बढ़ती पर्यावरणीय समस्याओं का तोड़ निकाला गया है। पहाड़ों पर बढ़ती गंदगी को खत्म करने के लिए नेपाल ने एक नया नियम बनाया है, जिसकी गुरुवार को घोषणा की गई।

पर्वतारोहियों के लिए बनाया गया नियम

माउंट एवरेस्ट पर गंदगी से निपटने के लिए नेपाल द्वारा जारी घोषणा में कहा गया है कि पर्वतारोहियों को अपने मल को उचित निपटान के लिए बेस कैंप में वापस लाना होगा।

बता दें कि एवरेस्ट क्षेत्र के अधिकांश हिस्से पसांग ल्हामू ग्रामीण नगरपालिका के तहत आते हैं। पसांग ल्हामू ग्रामीण नगरपालिका ने कहा कि दुनिया की सबसे ऊंची चोटी पर अपशिष्ट की समस्या से निपटने के लिए नया नियम बनाया गया है।

‘पहाड़ों से बदबू आने लगी है’

पसांग ल्हामू ग्रामीण नगरपालिका के अध्यक्ष मिंगमा शेरपा ने बताया कि पहाड़ों से बदबू आने लगी है। मिंगमा ने कहा कि हमें शिकायतें मिल रही हैं कि पहाड़ों पर मानव मल दिख रहा है। साथ ही कुछ पर्वतारोही बीमार पड़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि इसे स्वीकार नहीं किया जा सकता है, ये हमारी छवि खराब कर रही है।

कई और जगह भी लागू है ये नियम

बताया गया कि माउंट एवरेस्ट पर जाने वाले पर्वतारोहियों को बेस कैंप में पू बैग खरीदने के लिए कहा जाएगा और जब वे लौटेंगे तब उस बैग की जांच की जाएगी। उन्होंने कहा कि उत्तरी अमेरिका की सबसे ऊंची चोटी और अंटार्कटिक में भी ऐसे बैग का उपयोग हो रहा है।

सख्ती से नियम होंगे लागू

उन्होंने बताया कि इस नियम को लागू करवाने के लिए कार्यालय खोले जाएंगे। यह सुनिश्चित किया जाएगा कि पर्वतारोही अपने मलमूत्र वापस ला रहे हैं या नहीं। बता दें कि पर्वतारोहियों की बढ़ती संख्या के साथ माउंट एवरेस्ट पर कचरे में काफी वृद्धि हुई है।