कर्ज चुकाने के लिए युवक ने करवा ली खुद का अपहरण; पढ़े पूरी रिपोर्ट

उत्तर प्रदेश में शेयर बाजार के एक ट्रेडर ने कर्ज चुकाने के लिए एक ऐसी साजिश रची, जिसे सुनकर आप दांतों तले अंगुली दबा लेंगे। शम्सी रजा नाम के इस ट्रेडर के ऊपर 40 लाख रुपये का भारी-भरकम कर्ज था, और इसे चुकाने के लिए उसने खुद को ही किडनैप करवा लिया। उसने दावा किया था कि सोमवार को फिरौती के लिए उसे किडनैप कर लिया गया था, और 3 दिन बाद गुरुवार को उत्तर प्रदेश पुलिस ने उसे बचा लिया। बाद में पुलिस ने जब गहराई से जांच की तो कुछ और ही कहानी सामने आई।

कर्ज चुका पाने की हालत में नहीं था शम्सी

पुलिस की जांच में सामने आया कि शम्सी ने अपने साथियों शाहिद और मोहम्मद की मदद से खुद का अपहरण किया था। CCTV फुटेज में उसे दोस्तों के साथ चाय पीते और किडनैपिंग के लिए एक कार का इस्तेमाल करते हुए दिखाया गया है। DCP प्राची सिंह ने इस पूरे मामले के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि शम्सी सआदतगंज के दरगाह रोड इलाके में अपनी पत्नी फरहीन फातिमा और 2 बच्चों के साथ रहता है। उसने अपने कई रिश्तेदारों और दोस्तों से कर्ज भी लिया था, लेकिन वह इसे चुका पाने की हालत में नहीं था।

कर्ज चुकाने के लिए परेशान कर रहे थे लोग
कर्ज चुकाने से बचने के लिए शम्सी ने साजिश रची की वह खुद की किडनैपिंग करवा लेगा और घर आकर बता देगा कि रिश्तेदार के भेजे पैसे फिरौती में खर्च हो गए। उन पैसे से फिर वह अपना कर्ज चुका देगा। हालांकि पुलिस ने जब शम्सी से पूछताछ की तो पूरे मामले का खुलासा हो गया। पुलिस की पूछताछ में शम्सी ने बताया कि जिन लोगों से उसने कर्ज लिया था, वे उसे परेशान कर रहे थे और इसलिए उसने अपने दोस्तों शाहिद और मोहम्मद के साथ मिलकर खुद की ही किडनैपिंग की प्लानिंग की।

रिश्तेदार ने दुबई से भेज दिए 40 लाख रुपये

प्लान के मुताबिक, शम्सी सोमवार को अपनी पत्नी को बताए बिना चला गया और देर रात तक घर नहीं लौटा। पूरे दिन उसने अपना फोन स्विच ऑफ रखा। रात में उसने अपनी पत्नी फरहीन को फोन कर खुद के अपहरण की बात की और 40 लाख रुपये का इंतजाम करने को कहा। दुबई के एक रिश्तेदार ने पैसे का इंतजाम भी कर दिया। इसके बाद फरहीन ने शम्सी के अपहरण और फिरौती की मांग की खबर सआदतगंज पुलिस को दी, जिसके बाद पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी। जांच के दौरान पुलिस ने CCTV खंगाला तो सारा मामला खुल गया।

CCTV फुटेज में दिखा कार का नंबर

पुलिस ने बताया कि जब सीसीटीवी की जांच की गई तो शम्सी अपने दोस्तों के साथ चाय पीते हुए नजर आया। बाद में वह कार में बैठते हुए दिखा। CCTV फुटेज में कार का नंबर भी नजर आ रहा था और जब जांच की दगई तो बता चला कि कार शम्सी के कॉलोनी की ही है और इसका मालिक उसका दोस्त है। पूछताछ में कार के मालिक  ने बताया कि शम्सी के कहने पर ही उसने अपनी कार शाहिद को दी थी। इसके बाद पुलिस ने रूट चार्ट बनाया औऱ शम्सी को बरामद कर लिया।